अत्रि ऋषि का आश्रम (सतना)

सतना : चित्रकूट के पास ही सतना (मध्यप्रदेश) स्थित अत्रि ऋषि का आश्रम था। हालांकि अनुसूइया पति महर्षि अत्रि चित्रकूट के तपोवन में रहा करते थे, लेकिन सतना में ‘रामवन’ नामक स्थान पर भी श्रीराम रुके थे, जहां ऋषि अत्रि का एक ओर आश्रम था।

अत्रि ऋषि का आश्रम- वहां से प्रस्थान कर भगवान सतना मध्यप्रदेश पहुंचे। वहां उन्होंने अत्रि ऋषि के आश्रम में कुछ समय व्यतीत किया। अत्रि ऋषि वहां अपनी पत्नी, माता अनुसूइया के साथ निवास करते थे। अत्रि ऋषि, माता अनुसूइया एवं उनके भक्त सभी वन के राक्षसों से काफी भयभीत रहते थे। श्रीराम ने उनके भय को दूर करने के लिए सभी राक्षसों का वध कर दिया।

 

धर्म नगरी चित्रकूट में दीपावली पर लगने वाले पंच दिवसीय मेल का भव्य तरीके से आगाज हो गया है। श्रीराम की कर्मस्थली में दीपदान करने के लिए 10 लाख भक्त पहुंच चुके है। जबकि अभी 40 लाख भक्तों के आने की उम्मीद की जा रही है। मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, राजस्थान, छत्तीसगढ़, बिहार, दिल्ली, झारखंड, के भक्तों के आने का क्रम निरंतर जारी है। आस्थावानों के इस सैलाब को देखते हुए यूपी व एमपी का पुलिस प्रशासन भी हैरान है।

 

बता दें कि, भगवान राम की तपोस्थली चित्रकूट में दीपदान करने का शास्त्रों में बहुत बड़ा महत्व बताया गया है। दीपावली के अवसर पर मंदाकिनी नदी में स्नान करने के बाद लाखों भक्त पहले दीपदान करते है। फिर इसके बाद भगवान कामतानाथ के दर्शन उपरांत कामदगिरी पर्वत की 5 किमी. की परिक्रमा लगाई जाती है। पुण्य लाभ अर्जित करने की कामना को लेकर अभी तक 10 लाख श्रद्धालु चित्रकूट पहुंच चुके है। देर शाम तक यह संख्या 50 लाख तक पहुंचने का अनुमान पुलिस-प्रशासन ने लगाया है।

 

धनतेरस से भाई दूज तक चलता है मेला

धनतेरस से शुरू होने वाला दीपदान मेला भाई दूज तक चलता है। ऐसी मान्यता है कि लंकापति रावण से विजय प्राप्त करने के बाद प्रभु श्रीराम अयोध्या लौटते समय चित्रकूट रूके थे। यहां के ऋषि-मुनियों का आशीर्वाद लिया था। उस दौरान चित्रकूट में श्रीराम के स्वागत व उनके अयोध्या लौटने की खुशी में यहां के कोल, भील आदि आदिवासियों ने दीप जलाए थे। इसका उल्लेख रामचरित मानस सहित कई पौराणिक ग्रंथों में किया गया है।

 

ankit1985

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आयुर्वेदिक टिप्स - गंभीर से गंभीर नशे को करे जड़ से समाप्त

Mon Oct 19 , 2020
सतना : चित्रकूट के पास ही सतना (मध्यप्रदेश) स्थित अत्रि ऋषि का आश्रम था। हालांकि अनुसूइया पति महर्षि अत्रि चित्रकूट के तपोवन में रहा करते थे, लेकिन सतना में ‘रामवन’ नामक स्थान पर भी श्रीराम रुके थे, जहां ऋषि अत्रि का एक ओर आश्रम था। अत्रि ऋषि का आश्रम- वहां से […]
Loading...
Loading...