पिछले दिनों एक ऑनलाइन सर्वेक्षण में डॉ.आंबेडकर को महात्मा गाँधी के बाद सबसे महान भारतीय चुना गया। भारत के लोकतंत्र को एक आधुनिक सांविधानिक स्वरूप देने में डॉ.आंबेडकर का योगदान अब एक स्थापित तथ्य है जिसे शायद ही कोई चुनौती दे सकता है। डॉ.आंबेडकर को मिले इस मुकाम के पीछे एक […]

मध्य प्रदेश के इंदौर में स्थित खजराना गणेश मंदिर के चमत्कार की कहानी दूर दूर तक फैली है. भक्तों की आस्था का ये वो पावन स्थान है जहां चप्पे-चप्पे पर भगवान के चमत्कार मौजूद हैं. संतान की कामना, धन की ख्वाहिश, नौकरी की जरूरत से लेकर विद्या और बुद्धि तक […]

लाहाबाद को प्रयागराज करने की मुहिम के पीछे झूठ और पाखंड का एक कुचक्र है जिसने उन्हें बेहद आहत किया है जो ख़ुद को किन्हीं भी अर्थों में ‘इलाहाबादी’ समझते हैं। ये इलाहाबादी वही नहीं हैं जो संगम किनारे जन्मे, वे भी हैं जिन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय या अन्य शिक्षा संस्थानों […]

मोरिंगा के पेड़ को सेहत के लिए वरदान माना जाता है. इसे सहजन या ड्रमस्टिक भी कहा जाता है. भारत में सदियों से मोरिंगा का इस्तेमाल एक दवा के रूप में किया जाता रहा है. मोरिंगा पाउडर इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है. मोरिंगा यानी सहजन को सुपरफूड भी कहा […]

ज्यादतर महिलाओं को पीरियड्स के दौरान पेट में तेज दर्द और हैवी ब्लीडिंग की शिकायत होती है. इस असामान्य स्थिति को मेनोरेजिया कहते हैं. मेनोरेजिया में ब्लीडिंग इतनी तेज होती है कि हर घंटे पैड बदलने की जरूरत महसूस होती है. इसके अलावा मेनोरेजिया में पूरे समय पेट में दर्द […]

अगर आप अपने किशोरावस्था में हैं और अत्यधिक शराब पीते या पीती हैं तो आपकी अल्पकालिक याददाश्त इससे प्रभावित हो सकती है. एक नए शोध में यह पता चला है. पत्रिका जेनूरोसी में प्रकाशित शोध के निष्कर्ष के मुताबिक, किशोरावस्था में अत्यधिक शराब पीने से दिमाग की उन कोशिकाओं की […]

जर्मनी में मैग्डेबर्ग की ओटो वॉन गुरिके यूनिवर्सिटी में हुए एक ताजा अध्ययन में यह पता चला है कि निरंतर तनाव और कोर्टिसोल के बढ़े हुए स्तर से ऑटोनोमिक नर्वस सिस्टम में असंतुलन और वास्कुलर डिरेगुलेशन के कारण नेत्रों और मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. शोध दल ने यह […]

मर्दानगी की समस्या को लेकर गलत खान-पान की वजह से या गलत दिनचर्या की वजह से हमारा मानव जीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो गया है. और आजकल के युवा में और प्रौढ़ व्यक्तियों में मर्दानगी की समस्या एक विकराल रूप धारण करती जा रही है लगभग 10 में से […]

इलाहाबादी कवि बोधिसत्व चाहे मुंबई में रहते हों, लेकिन इलाहाबादियों को ‘प्रयागराजी’ बनाने की हिमाक़त के बीच प्रतिवाद के सबसे मुखर स्वरों में हैं। वे लगातार इस झूठ की बुनियाद हिला रहे हैं कि अकबर ने प्रयाग का नाम बदलकर इलाहाबाद कर दिया था। बोधिसत्व जिन तर्कों और तथ्यों को […]

उत्तराखंड में पाँच प्रयाग हैं- विष्णुप्रयाग, नंदप्रयाग, कर्णप्रयाग, रुद्रप्रयाग और देवप्रयाग। यह सभी स्थान पवित्र नदियों के संगम पर स्थित हैं। यानी प्रयाग विशेषण है न कि संज्ञा। प्रयाग पवित्र यज्ञभूमि के रूप में कल्पित है। गंगा-यमुना और अदृश्य सरस्वती के संगम का प्रयाग तीर्थराज है। इलाहाबादी कवि बोधिसत्व ऐतिहासिक […]

Loading...