एरंड के पत्तों से करे पीलिया का तुरंत इलाज आयुर्वेदिक उपचार

आसान आयुर्वेदिक पीलिया का इलाज घरेलु उपचार इन हिंदी में

Jaundice treatment in Hindi — एरंड के बारे में हमारा पूरा देश जनता हैं, यह भारत में हर गाँव व हर शहर में मिल जाता हैं. एरंड के तेल व इसकी पत्तियों का आयुर्वेद में बहुत महत्त्व हैं, इसको पीलिया का इलाज करने के लिए भी रामबाण घरेलु नुस्खे में गिना जाता हैं. यह लिवर की कमजोरी को दूर करता हैं व पीलिया ठीक करता हैं.

पीलिया एक आम रोग हैं जो की पुरे भारत व दुन्या भर में फैला हुआ हैं, इस रोग के होने के कई कारण हो सकते हैं. जैसे बाजार की चीजों का ज्यादा सेवन, बासी भोजन करना, गन्दा पानी पीना, किसी रोगी का झूठा पानी पीना आदि पीलिया की और भी कई वजह होती हैं.

यह जरूर पड़ें :

और ढेर सारे आयुर्वेदिक नुस्खे पढ़ने के लिए एक बार यह लेख जरूर पड़ें

पीलिया की पहचान

पीलिया रोग की सही समय पर पहचान करना बहुत जरुरी होता हैं, क्योंकि जैसे जैसे यह रोग पुराना होता जाता हैं व्यक्ति की हालत उतनी ही कमजोर पढ़ने लगती हैं. जैसे शुरुआत में पीलिया के रोगी की आँखें पिले होने लगती हैं,नाख़ून पिले होने लगते हैं, पूरा शरीर हल्का पीला हो जाता हैं, पेशाब पिली होने लगती हैं, भूख लगना कम व बंद हो जाती हैं, थोड़ा सा काम करने पर ज्यादा थकान होने लगती हैं आदि और भी पीलिया के लक्षण होते हैं. पीलिया की पहचान व इसके लक्षण के बारे में (इसके लक्षण के बारे में अच्छे से भी लोगों को पता होना बेहद जरुरी है)

जिनको पीलिया हो जाए विशेषकर के मान लीजिये जो गर्भावस्था में कोई महिला हो उनको कभी पीलिया हो जाता हैं तो उस समय पर सावधानी की बड़ी जरूरत पड़ती हैं. रक्ताल्पता जब एनेमिक हो जाती हैं. तो ऐसी अवस्था में कोई ऐसी कोई औषधि नहीं हैं जो उनको दी जा सके जो की उनके पीलिया को ठीक भी कर दे और नुकसान भी न पहुंचाए, ऐसे में एरंड ही एक मात्रा उपाय हैं जो की नुकसान नहीं पहुंचता हैं और पीलिया का इलाज भी करता हैं.

एरंड के पत्तों को कुचलकर के काढ़ा बनाकर के पिए. कैसे भी पीलिया का रोगी हो, गर्भावस्था में पीलिया हो, बच्चे को पीलिया हो आदि किसी को भी पीलिया हो सुबह व शाम थोड़ा एरंड के पत्तों का रस यानी काढ़ा बनाकर के पिलाने से तुरंत लाभ होता हैं. एरंड के थोड़े पत्ते तोड़ लीजिये और उनको घोंटकर 1 चम्मच रस निकल कर के पीला-दीजिये. पीलिया का इलाज के लिए एरंड बहुत असरकारी हैं (गर्भावस्था में पीलिया का उपचार कैसे करे) jaundice in pregnancy treatment in Hindi.

पीलिया में क्या खाये और क्या नहीं खाना चाहिए

पीलिया एक ऐसा रोग हैं जिसमे परहेज का विशेष ध्यान रखना पड़ता हैं, अगर आप यह नुस्खा भी अपना रहे हैं तो तली चीजों का सेवन बिलकुल न करे, घी की रोटी न खाये, घी बिलकुल भी न खाये, चिकने पदार्थ न खाये आदि बहुत सी चीजों का परहेज करना होगा ऐसा करने से पीलिया जल्द से जल्द ठीक होगा.

इसके अलावा हम आपको निचे कुछ लेखों की जानकारी दे रहे हैं उन्हें भी जरूर पड़ें, आपको उनमे पीलिया से सम्बंधित ढेर सारी जानकारी जानने को मिलेगी यानी ऐसे कई पीलिया के घरेलु नुस्खे जानने को मिलेंगे व पीलिया कैसे होता हैं, क्यों होता हैं इससे कैसे बचा जाए आदि पूरी जानकारी आपको मिल जाएगी. पीलिया का इलाज के लिए आयुर्वेदिक उपचार में यह नुस्खे व उपाय बहुत ही कारगर हैं.

यदि आपको जानकारी पसंद आये तो आप इसे अधिक से अधिक शेयर कीजिये। और इस पोस्ट को लाइक और कमेन्ट कीजिये आपको ये कैसी लगी और हमे फॉलो करना न भूलें ।

नपुंसकता/शुगर, मोटापे, बवासीर, जोड़ों के दर्द, गंजेपन से छुटकारा पाने की आयुर्वेदिक दवाई प्राप्त करने के लिए WhatsApp 9654801188 करें
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻फ्री आयुर्वेदिक🌿 उपचार का फ़ेसबुक⬆️ ग्रुप जॉइन करने के लिए लिंक पर क्लिक👍 करें

https://www.facebook.com/groups/ayurvedicupcharinhindi/

ankit1985

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अंडकोष की बीमारी के लिए घरेलु और आयुर्वेदिक उपचार

Mon May 6 , 2019
आसान आयुर्वेदिक पीलिया का इलाज घरेलु उपचार इन हिंदी में Jaundice treatment in Hindi — एरंड के बारे में हमारा पूरा देश जनता हैं, यह भारत में हर गाँव व हर शहर में मिल जाता हैं. एरंड के तेल व इसकी पत्तियों का आयुर्वेद में बहुत महत्त्व हैं, इसको पीलिया का इलाज करने […]
Loading...
Loading...