आयुर्वेदिक उपचार – जोड़ो के दर्द को करे इन टिप्स से जड़ से खत्म

सवाल – मेरी उम्र 35 वर्ष है. मुझे कंधों तथा बांहों में अकसर दर्द रहता है. साथ ही कई बार उंगलियां भी सुन्न सी महसूस होती हैं. यह क्या हो सकता है?

जवाब – इस की अपने डाक्टर से जांच करवाएं. ये कई चीजों के लक्षण हो सकते हैं, जिन में बहुत संभव है कि यह कई वर्षों से चला आ रहा सर्वाइकल डिस्क डिजैनरेशन का मामला हो. रीढ़ के जोड़ की 7 हड्डियां जैल जैसे पदार्थ से भरी डिस्क से अलग होती हैं. वक्त के साथ ये हड्डियां घिसने और कमजोर पड़ने लगती हैं. इस से डिस्क के बीच दूरी कम हो जाती है और नसों पर चुभन भरा दबाव पड़ने लगता है जिस वजह से नसें कमजोर पड़ जाती हैं और दर्द तथा सुन्नता बढ़ने लगती है.

शुगरफ्री डाइट प्लान

ऐसे भोजन में कई खाने वाली चीजों को पूरी तरह बंद कर दिया जाता है. कुछ को ही शामिल किया जाता है. खट्टे फल ज्यादा खाए जाते हैं.

क्या खाएं – ज्यादा फाइबर वाली चीजें जैसे ब्रोकली, चाइना सीड, बैरी, टमाटर, भूरे चावल आदि.

– सेहतमंद वसा जैसे जैतून का तेल, अखरोट, बादाम, कद्दू के बीच आदि.

– खट्टी चीजें जैसे अचार, टोफू, सिरका, नीबू का रस आदि.

– चिकन बोन ब्रोथ, दालें, बींस, सालमन फिश, अंडे, कच्चा चीज आदि.

क्या न खाएं – जंक फूड, मिठाई, कैंडी, फलों का रस.

– रिफाइंड अनाज से बनी चीजें.

– सोडा और मीठे पेय.

– गन्ने से बनी चीनी और टेबल शुगर.

शुगरफ्री भोजन के फायदे

– इस से वजन कम होता है और डायबिटीज की संभावना भी कम होती है.

– इस तरह का भोजन मोटापे से बचाता है और ब्लड शुगर का लैवल नौर्मल बनाए रखता है. ब्लड शुगर में अचानक उतारचढ़ाव नहीं आता.

– लंबे समय तक ऊर्जा देता है. आम चीनी सिंपल कार्बोहाइडे्रट होते हैं. ये जल्दी पचते हैं और तुरंत खून में चले जाते हैं. इस से ब्लड शुगर का लैवल बढ़ जाता है. लेकिन जैसे ही यह चीनी मैटाबोलाइज हो जाती है. ब्लड शुगर कम हो जाती है. शुगरफ्री चीजों को पचने में ज्यादा समय लगता है. इस से दिनभर ब्लड शुगर का लैवल एक जैसा बना रहता है.

– त्वचा को जवां और खूबसूरत बनाता है. शुगरफ्री भोजन के द्वारा आप एजिंग के लक्षणों को रोक सकते हैं.

– हर कोई जानता है कि रोजाना चीनी वाली चीजें खाने से वजन बढ़ता है, जिस का सब से ज्यादा असर पेट पर पड़ता है.

– चीनी वाला भोजन ब्लड शुगर को बढ़ाता है,  जिस से शरीर में इंसुलिन ज्यादा बनने लगता है, समय के साथ जरूरत से ज्यादा ग्लूकोज पेट पर जमने लगता है. विसरल फैट की ये कोशिकाएं सब से ज्यादा खतरनाक होती हैं, क्योंकि इन से ऐडिपोंिंकस और ऐडिपोज हारमोन बनते हैं, जो खून की नलियों और शरीर के अंगों में पहुंच कर सूजन पैदा करते हैं, दिल की बीमारियों और कैंसर तक का कारण बन सकते हैं. चीनी कम करते ही पेट पर जमी वसा कम होने लगती है और आप खतरनाक बीमारियों से बच जाते हैं.

– पाचनतंत्र की बात करें तो कम चीनी और ज्यादा फाइबर वाला भोजन आप को इरिटेबल बाउल सिंड्रोम यानी आंतों का रोग, पेट फूलना, कैंडिडा, बैक्टीरिया के संक्रमण से बचाए रखता है.

– चीनी का सेवन कम करने से फैटी लिवर रोग की संभावना कम हो जाती है. आप कई तरह के कैंसर से भी बचे रहते हैं.

– शुगरफ्री भोजन के द्वारा शरीर की सूजन को कम किया जा सकता है.

– कैंडिडा वायरस के इलाज में भी शुगरफ्री भोजन लेने की सलाह दी जाती है.

#धार्मिक#आयुर्वेदिक ज्ञानवर्धक जानकारियों के ग्रुप में शामिल होने के लिए click करें 🌹👇👇
https://www.facebook.com/groups/2682785392048844/

भूख बढ़ाने के लिए
कब्ज मिटाने के लिए
ताकत पाने के लिए
आंखों की कमजोरी दूर करने में लाभदायक
एसिडिटी से निजात पाने के लिए
ऑर्डर करने के लिए click करें https://waapp.me/wa/4ihe2Q3r अंगूर से बनी
Dr Nuskhe Grapes Jeely 555rs

नींद नहीं आना, depression, घबराहट, बेचैनी, स्ट्रेस को दूर करने के लिए घर बैठे आयुर्वेदिक Dr Nuskhe Stress Relief kit मूल्य 698rs ऑर्डर करने के लिए click करें https://waapp.me/wa/ZoxQDeYH

अश्वगंधा इस्तेमाल करने की विधि🌿फ्री आयुर्वेदिक हेल्थ चैनल ग्रुप से जुड़ने के लिए click करें
👇
https://www.facebook.com/groups/293393938690839/

(डॉ. नुस्खे )
Delhi 7455896433

डॉ नुस्खे अश्वगंधा रोज़ाना सुबह शाम 1-1 चमच्च दूध के साथ खाए और अपनी ताकत, immunity बढ़ाएं
डॉ नुस्खे अश्वगंधा आर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें या WhatsApp 7455-896-433 और पाएं पूरे भारत में डिलीवरी https://waapp.me/wa/n3gnd1oc

ankit1985

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आयुर्वेदिक उपचार से शरीर को तंदरुस्त और ताकतवर बनाए

Sat Sep 5 , 2020
सवाल – मेरी उम्र 35 वर्ष है. मुझे कंधों तथा बांहों में अकसर दर्द रहता है. साथ ही कई बार उंगलियां भी सुन्न सी महसूस होती हैं. यह क्या हो सकता है? जवाब – इस की अपने डाक्टर से जांच करवाएं. ये कई चीजों के लक्षण हो सकते हैं, जिन […]
Loading...
Loading...