अजवायन के फायदे तथा घरेलू उपाय जो कई बिमारियों को रखे दूर

अजवायन का पौधा 3-4 फुट ऊँचा होता है। इसके फूल सफेद, छाते के आकार के होते हैं। बीज छोटे, पीलाई लिये होते हैं। इन्हीं बीजों को अजवायन कहते हैं तथा अजवायन का बीज के रूप में अधिक प्रयोग  होता है। अजवायन के बीजों में एक सुगन्धित तेल होता है। ठंड से वह जम जाता है। इसे ‘सत अजवायन’ कहते हैं। इसमें वे सभी गुण होते हैं जो अजवाइन में होते हैं। अजवाइन का अर्क भी बनाया जाता है। आयुर्वेद में इसका बहुत प्रयोग किया जाता है । अजवाइन के तेल में एक विशेष प्रकार की तेज गंध और स्वाद में तेजी होती है।

डॉ नुस्खे brain shakti power kitऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें

https://waapp.me/wa/d1jgLLZF

 अजवायन के औषधीय गुण

अजवायन के औषधीय गुण

यदि आप रोज सुबह खाली पेट अजवाइन को पानी में उबाल कर इस पानी को पियें तो आप कई रोगों से मुक्त हो सकते हैं। जैसे –

  • अजवाइन का पानी पेट के सभी बिमारियों से बचाव करता है।
  • अजवाइन का पानी खाने को जल्दी पचाने में मदद करता है।
  • वजन को कन्ट्रोल करता है, और वजन बढ़ने नहीं देता।
  • एसिडिटी से तुरंत राहत देता है।
  • अगर आप नियमित रूप से इसका सेवन करें तो हार्ट के बीमारी से बच सकते हैं।
  • अजवाइन का पानी मुँह के बदबू से छुटकारा दिलाता है और दाँतों को मजबूत बनाता है।
  • दमा के मरीजों के लिए रामबाण औषधि है।

सर्दी, जुकाम, खांसी, सिरदर्द और अस्थमा से राहत पाने के लिए अजवायन के नुस्खे 

  • अजवायन को हल्का भूनकर 2-3 ग्राम की मात्रा में प्रातः सायं गुनगुने पानी या दूध के साथ लेने से सर्दी, जुकाम या पेट के रोगों में लाभ होगा।
  • जिन्हें रात में अधिक खांसी होती हो, उन्हें पान के पत्ते में अजवायन डालकर खाना चाहिए। अदरक के रस में थोड़ा सा अजवायन का पाउडर मिलाकर लेने से भी खांसी में तुरंत आराम मिल जाता है।
  • अजवायन के दानों को भूनकर एक सूती कपड़े में लपेट लिया जाए और रात में तकिये के नजदीक रखा जाए तो दमा, सर्दी और खांसी के रोगियों को रात को नींद में सांस लेने में तकलीफ नहीं होती है।
  • अजवायन को पीसकर नारियल तेल में मिलाकर माथे पर लगाया जाए तो सिर दर्द में आराम मिलता है।
  • साँस सम्बंधी रोगों में अजवाइन का पाउडर छाछ के साथ लेने से फंसे हुए बलगम के कारण होने वाली तकलीफ ठीक होती है। अजवाइन के साथ थोड़ा नमक और एक लौंग धीरे-धीरे चबाकर खाने से भी सांस सम्बंधी कष्ट दूर होते हैं।
  • एक चम्मच अजवायन और चौथाई चम्मच कालीमिर्च दोनों पीसकर, मिलाकर गर्म पानी से सुबह-शाम लेने से दमा में लाभ होता है। नोट :- नसवार नाक से किसी पाउडर को सूंघने की एक प्रक्रिया होती है |
  • अस्थमा के रोगी को अजवायन के दाने और लौंग की समान मात्रा का 5 ग्राम पाउडर प्रतिदिन दिया जाए तो काफी फायदा होता है। अजवायन को किसी मिट्टी के बर्तन में जलाकर उसका धुआं भी दिया जाए तो अस्थमा के रोगी को सांस लेने में राहत मिलती है

डॉ नुस्खे herbal shntiऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करे

https://waapp.me/wa/vfkUQaYQ whashap no:9717393140

स्त्रियों के लिए अजवायन के गुण

  • अजवाइन के निरन्तर सेवन करते रहने से महिलाओं की बच्चेदानी स्वस्थ एवं पुष्ट बनी रहती है। बच्चे को दूध पिलाने वाली माताओं के लिए यह अनमोल साबित होती है क्योंकि इसके नियमित सेवन करते रहने से माताओं में दूध की मात्रा बढ़ जाती है।
  • बहुत-सी गर्भवती स्त्रियों के कमर में दर्द रहता है। उन्हें गुड़ और अजवाइन मिलाकर गोली के रूप में देने से कमर दर्द में आराम आता है और गर्भाशय शुद्ध होता है। अजवाइन के प्रयोग से उन्हें भूख लगती है और शरीर की शक्ति बढ़ती है। ये भी याद रखें की अजवायन के अधिक सेवन से गर्भपात भी हो सकता है इसलिए सावधानी से कम मात्रा में ही सेवन करें |
  • जिन स्त्रियों को मासिक धर्म कष्ट से आता है, उन्हें गुड़ और अजवाइन पानी के साथ देने से मासिक धर्म के कष्ट दूर होते हैं।
  • जिन स्त्रियों को गर्भ धारण करने में कठिनाई होती हो उन्हें मासिक धर्म के प्रारम्भ से 8 दिन तक रोजाना 25 ग्राम अजवायन और 25 ग्राम मिश्री, 125 ग्राम पानी में रात को किसी मिट्टी के बर्तन में भिगो दें। सुबह इसे ठण्डाई की तरह पीसकर पियें। इससे गर्भधारण सम्बंधित समस्या ठीक होती है |
  • 10 ग्राम अजवायन को 1 लीटर पानी में पकाकर 1/4 भाग शेष रहने पर छानकर सुबह-शाम डिलीवरी के समय के निकट गर्भवती स्त्री को पिलाने से प्रसूतिजन्य विकार नहीं होते है ।
  • 10 ग्राम अजवायन को बारीक पीसकर उसमें 1/2 नींबू का रस निचोड़ कर डालें, 5 ग्राम फिटकरी पाउडर व छाछ को मिलाकर बालों में मलने से बालों की रूसी ठीक होती है, साथ ही लीखें तथा जूएँ भी मर जाती हैं।

 

डॉ नुस्खे joint pain killer kitऑर्डर करने के लिंक पर क्लिक करें

https://waapp.me/wa/4TbZToNF

पेट से संबंधित रोगों में अजवाइन के लाभ 

  • पेट में गैस अथवा अफारा होने पर अजवाइन को साफ करके थोड़ा-सा काला। नमक मिलाकर पाउडर बनाकर पानी के साथ लेने से कुछ ही क्षणों में अफारा दूर हो जाता है। यदि पाउडर न हो तो थोड़ी-सी अजवाइन दांतों से चबाकर चूसने और थोड़ा गर्म पानी पीने से अफारा और पेट दर्द दूर हो जाता है।
  • अजवाइन का गुण भोजन को पचाना और पाचक रसों की उत्पत्ति करना है। इसके लिए अजवाइन छोटी हरड़, थोड़ी हींग और सेंधा नमक मिलाकर पाउडर बना लें और गर्म पानी के साथ भोजन के बाद इसका प्रयोग करें। यह पाचन-शक्ति बढ़ाने वाला पाउडर है।
  • जिन्हें अजीर्ण यानि बदहजमी खट्टी डकारे आदि रहता हो और पेट में कीड़े हों, उन्हें प्रात:काल बिना कुछ खाए-पिए थोड़े नमक के साथ अजवाइन चबाकर खाने से लाभ होता है। जिनकी पाचन-क्रिया ठीक न हो, पतले दस्त हों, प्लीहामें खराबी हो तो उन्हें भी अजवाइन और नमक मिलाकर मुंह में अच्छी तरह चबाकर पानी के साथ निगलने से लाभ होता है।

अन्य रोगों में अजवायन के लाभ

जो लोग ज्यादा शराब पीते हों तथा एल्कोहल वाला पेय (शराब) छोड़ना चाहते हों, वे आधा किग्रा अजवायन को 4 लीटर पानी में पकाकर तथा लगभग 2 लीटर बचने पर छानकर रखें, इसे प्रतिदिन भोजन के पहले 1-1 कप पीएं। इससे लीवर भी ठीक रहेगा। शराब पीने की इच्छा भी कम होगी।

  • 6 ग्राम अजवायन रोजाना फाँकने से पथरी निकल जाती है।

डॉ नुस्खे bheem power Kit ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें

https://waapp.me/wa/1x6BTwTK

 गठिया के रोग में अजवायन के लाभ 

  • शरीर में गुर्दो अथवा गठिया के रोग में अजवाइन के तेल की मालिश करने से लाभ होता है। गठिए के रोगियों को किसी न किसी रूप में अजवाइन का प्रयोग करते रहना चाहिए और उन्हें अपनी सब्जी और रोटी के आटे के साथ गूंथकर अजवाइन खाते रहने से लाभ होता है।
  • अजवाइन को घी में भूनकर उसका पाउडर बना लें। इस पाउडर में एक चम्मच शहद मिलाकर दूध के साथ लेने से शारीरिक शक्ति का विकास होता है।
  • जोड़ों का दर्द हो, सामान्य दर्द शरीर में कहीं भी हो, घुटने, बाँह, गर्दन, कमर में दर्द हो, तो दो गिलास पानी में चार चम्मच अजवायन और तीन चम्मच काला नमक या नित्य खाये जाने वाला नमक डालकर उबालें और फिर इस गर्म पानी में कपड़ा भिगोकर सुबह-शाम सेंक करें। इसके बाद अजवायन के तेल की दो बार ही मालिश करें। अजवायन का तेल बनाने के लिए 5 चम्मच अजवायन और दस चम्मच तिल का तेल मिलाकर उबालें। अच्छी तरह उबलने पर तेल को ठण्डा करके छान लें और इस तेल से मालिश करें। इस तेल की मालिश से सभी प्रकार के दर्दों में लाभ होता है। इसके अतिरिक्त रोजाना 5-5 चम्मच पिसी अजवायन व गुड़ मिलाकर इसे 1-1 चम्मच की मात्रा में खाने से जोड़ों के दर्द में लाभ होता है।

अजवायन का सेवन जरुर करें पर कुछ सावधानियां भी रखे, क्योंकि अजवायन की तासीर बहुत गर्म होती है इसका अधिक सेवन नुकसान भी पहुँचा सकता है। आप अगर दिन में 10 ग्राम से ज्यादा मात्रा में अजवायन का सेवन करेंगे तो वो एसिडिटी को बढ़ा सकता है, उलटी, पेट में जलन की समस्या को पैदा कर सकता है

ankit1985

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Loading...