Loading...

गले में इन्फेक्शन कई बार हमें बहुत ही परेशान करती है। इसमें जलन और दर्द होने से दैनिक काम पर ध्यान केंद्रित करने में मुश्किल आती है। ऐसे दर्द गले में इन्फेक्शन के लक्षण भी है। वैसे आपकी रसोई में गले में इन्फेक्शन को दूर करने के बहुत सी सामग्री है, जिसका उपयोग आप आयुर्वेदिक उपचार के तौर पर कर सकते हैं।

1. हल्दी –

एंटी-आक्सीडेंट और एंटी-कैंसर के गुणों से भरपूर हल्दी में करक्यूमिन होने के कारण कई बीमारियों से लड़ने का काम करती है। गले में इन्फेक्शन को दूर करने के लिए आप हल्दी और दूध का सेवन कर सकते हैं। यह गले में खराश, ठंड और लगातार खांसी का इलाज करने के लिए जाना जाता है यह सूजन और दर्द को दूर भी कर सकता है। आयुर्वेद की दुनिया में, यह एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक के रूप में जाना जाता है।

2. नमक पानी से गरारे –

गले के इंफेक्शन को दूर करने के लिए आप नमक पानी से गरारे कर सकते हैं। यह सबसे पुराना और आसान उपाय है। इसे हम दादी मां के घरेलू उपाय के तौर पर भी जानते हैं। नमक को आश्चर्यजनक एंटी-बैक्टीरियल गुणों के लिए जाना जाता है। गले के इंफेक्शन को दूर करने के लिए गर्म पानी के कप में ¼ चम्मच नमक को मिलाएं। दिन में कम से कम दो से तीन बार गरारे करें। यह बैक्टीरिया को बेअसर कर देगा और जल्दी से राहत देगा।

3. शहद –

नियमित रूप से शहद खाने से शरीर निरोगी, ऊर्जावान व स्वस्थ बना रहता है। चम्मच भर शहद के सेवन से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है, जिसके कारण बीमारियां पास नहीं आती है। गले के इंफेक्शन को दूर करने के लिए आप गर्म पानी में अदरक और नींबू को डाले तथा हल्का ठंड़ा होने के बाद उसमें शहद को मिलाएं। यह गले के इंफेक्शन के साथ-साथ यह खांसी के उपचार में बहुत प्रभावी है। यह गले में सूजन को कम करने में मदद करता है।

यदि आपको जानकारी पसंद आये तो आप इसे अधिक से अधिक शेयर कीजिये। और इस पोस्ट को लाइक और कमेन्ट कीजिये आपको ये कैसी लगी और हमे फॉलो करना न भूलें ।

नपुंसकता/शुगर, मोटापे, बवासीर, जोड़ों के दर्द, गंजेपन से छुटकारा पाने की आयुर्वेदिक दवाई प्राप्त करने के लिए WhatsApp 9654801188 करें
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻फ्री आयुर्वेदिक🌿 उपचार का फ़ेसबुक⬆️ ग्रुप जॉइन करने के लिए लिंक पर क्लिक👍 करें

https://www.facebook.com/groups/ayurvedicupcharinhindi/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Loading...