Loading...

हस्तमैथुन से आई कमजोरी से परेशान है आप तो ऐसे करें दूर.
योन सुख पाने का अप्राकृतिक तरीका होता है। यदि लगातर या अधिक मात्रा में हस्‍तमैथुन किया जाता है तो इसके गंभीर दुष्‍प्रभाव हो सकते हैं। लेकिन हस्‍तमैथुन से आने वाली कमजोरी को दूर करने के लिए कुछ प्राकृतिक और घरेलू उपचार भी होते हैं। इस लेख में आप हस्‍तमैथुन से होने वाली कमजोरी को दूर करने उपाय जान सकते हैं।

जिन्‍हें पर्याप्‍त यौन सुख प्राप्‍त नहीं होता है वे लोग संतुष्टि के लिए हस्‍तमैथुन का उपयोग करते हैं। विशेष रूप से हस्‍तमैथुन का प्रमुख कारण सेक्‍स की अधिक इच्‍छा और एकान्‍त को माना जाता है। यह कोई रोग न होकर एक गंदी लत है जो स्‍वास्‍थ्‍य और समाज के लिए उचित नहीं है। किसी पुरुष या महिला के लिए हस्‍तमैथुन करने के अन्‍य कारण भी होते हैं। जो इस प्रकार हैं।

हस्‍तमैथुन का प्रमुख कारण अधिक समय तक एकान्‍त में रहना है।
जैसे ही समय मिले गंदे वीडियों, अश्‍लील चित्र देखना।
अश्‍लील महिला या पुरुषों के संपर्क में रहना।
कामवासना की अधिकता।

सामान्‍य रूप से किसी पुरुष के लिए हस्‍तमैथुन यौन सुख प्राप्‍त करने का एक कृत्रिम तरीका है। लगातार हस्‍तमैथुन करना किसी भी पुरुष के लिए हानिकारक हो सकता है। यह बाध्‍यकारी आदत आपके साथी के साथ आपके यौन संबंधों को भी प्रभावित कर सकती है। क्‍यों‍कि आप केवल अपने स्‍पर्श से उत्‍तेजित हो सकते हैं। अपने साथी के साथ स्‍वस्‍थ यौन संबंध का आनंद लेने के लिए और इससे होने वाले दुष्‍प्रभावों से बचने के लिए हस्‍तमैथुन की लत से छुटकारा पाने का प्रयास करना चाहिए। हस्‍तमैथुन से होने वाले दुष्‍प्रभावों में शामिल हैं :

कमजोरी और थकान।
निचले हिस्‍से में दर्द।
मेमोरी लॉस।
बालों का झड़ना या पतला होना।
वीर्य का स्राव (पुरुषों में)
लिंग का खड़ा न होना।
उत्‍तेजित होने पर भी लिंग नरम रहना।
समय पूर्व स्‍खलन।

इन सभी समस्याओं से बचने के लिए यहां कुछ उपचार बताए जा रहे हैं। साथ ही इससे होने वाली कमजोरी को भी दूर करने में मदद मिल सकती है।
आवला तथा हल्दी – आंवला तथा हल्दी समान मात्रा में पीसकर घी डालकर सेंक लीजिये, और भून लीजिये, सिकने के बाद दोनों की बराबर मात्रा में पीसी मिश्री मिला लीजिये. (जैसे 100-100 ग्राम आंवला और हल्दी है तो मिश्री २०० ग्राम) अभी इसको सुबह शाम एक एक चम्मच गर्म दूध के साथ फंकी लीजिये.
असगंध (अश्वगंधा) – आधा चम्मच असगंध की फंकी नित्य सुबह शाम गर्म दूध से लेने से ठीक हो जाती है. मर्दाना शक्ति भी बढती है और आंवले के प्रयोग को भी निरंतर करे.
कच्ची हल्दी और शहद – कच्ची हल्दी का रस दो चम्मच, समान भाग शहद में मिलाकर एक बार रोजाना पियें. या पीसी हुयी हल्दी 250 ग्राम गाय या भैंस के घी में सेंक कर इसमें पीसी हुयी 250 ग्राम मिश्री मिला लें. नित्य रात को गर्म दूध से फंकी लें.

काफी गहन अघ्ययन के बाद हस्थमैथुन से आई शारीरिक अंदरूनी मर्दाना कमजोरी का उपचार डॉ नुस्खे किंग कोबरा किट ऑर्डर करने के लिए WhatsApp करें 8447832868 या लिंक पर क्लिक करें
https://qopi.me/5b3d70

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Loading...