पेट की जलन और एसिडिटी दूर करने के घरेलु उपाय और नुस्खे

पेट में जलन आम समस्या है, लेकिन ऐसा बार-बार हो तो परेशानी बढ़ सकती है। से जुड़ीं ऐम्स की डॉ.nuskhe  के अनुसार, पेट की जलन को एसिडिटी कहा जाता है। आमतौर पर यह जलन छाती या सीने में होती है। पाचन के दौरान निकलने वाले अम्ल के कारण ऐसा होता है। ज्यादा तला हुआ खाने से एसिडिटी होती है। ऐसा खाना देरी से पचता है और इस कारण पेट में अम्ल बनने लगता है। जो लोग अत्यधिक चाय, कॉफी, सिगरेट या शराब पीते हैं, उनमें यह समस्या अधिक रहती है। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को एसिडिटी की समस्या हो सकती है। सामान्य अवस्था में इसके घरेलू उपाय किए जा सकते हैं जो बहुत आसान हैं।

एसिडिटी दूर करने के घरेलू उपाय
कोशिश करें कि खाना खाने के तुरंत बाद बहुत ज्यादा पानी न पीएं। इससे पाचन क्रिया बाधित हो सकती है। खाना खाने के कुछ देर बाद शरीर अपने आप पानी मांगता है और खाना सहज तरीके के पच जाता है। यदि एसिडिटी हो गई है तो ठंडे दूध का सेवन करें। जिन लोगों को दूध या इससे बनी चीजें पचाने में मुश्किल नहीं होती है, उनके लिए यह रामबाण इलाज है। केले का सेवन करें। पपीता और सेब में पेट की जलन को दूर भगाने के प्राकृतिक गुण पाए जाते हैं। सौंफ भी एसिडिटी में राहत देती है। सौंफ को चबाया जा सकता है या इसकी चाय बनाकर पी जा सकती है। विटामिन-सी से भरपूर आंवला पेट संबंधी कई बीमारियों का इलाज करता है और एसिडिटी भी इनमें शामिल है। आंवले का मुरब्बा भी खाया जा सकता है। इसी तरह एसिडिटी दूर करनी है तो अदरक चबाएं। गुलकंद भी फायदेमंद है।

डॉ. नुस्खे BHEEM CHURNA घर बैठे ऑर्डर करने के लिए क्लिक करें करे https://waapp.me/wa/PZx9M8qd

एलोवेरा पेट में ठंडक पहुंचाता है। इससे सीने की जलन भी कम होती है। खान खाने से पहले आधा कप एलोवेरा जू स का सेवन करें। एसिडिटी नहीं होगी और पाचन भी सही रहेगा। भोजन में दही को शामिल करें। दही में प्रोबायोटिक्स और सेहत को फायदा पहुंचाने वाले बैक्टीरिया होते हैं। पेट में ठंडक रहेगी। ग्रीन टी या पेपरमिंट टी का सेवन करें। इनमें एसिडिटी दूर करने का गुण होता है।

सर्दी के मौसम में बादाम बहुत गुणकारी है। यह एसिडिटी को दूर करने में भी फायदा पहुंचता है। रात को सोते समय बादाम भीगो लें और सुबह उठाकर चबा लें। तुलसी के कई फायदे हैं, जिनमें एसिडिटी दूर करना भी शामिल है। तुलसी के पत्ते को उबालकर छान लें और शहद मिलाकर सेवन करें। रोज सुबह खाली पेट तुलसी के दो-तीन पत्ते चबाने से एसिडिटी को खत्म किया जा सकता है।

एसिडिटी से बचाव के अन्य उपाय
नमक और मिर्च का सेवन कम करें। खाना खाने के तुरंत बाद बैठे या लेटें  नहीं। थोड़ी देर चहलकदमी करेंगे तो पाचन क्रिया सही रहेगी। जो लोग मोटापे के शिकार हैं, वे अपने खान-पान पर नियंत्रण रखें। खाना खाने से पहले या तत्काल बाद चाय या कॉफी न पीएं। यदि घरेलू उपाय करने के बाद भी पेट में जलन बनी हुई है तो डॉक्टर को दिखाएं। पेट के अंदर छालों के कारण भी जलन हो सकती है। डॉक्टर साधारण एंटी-एसिड दवाएं देकर इलाज करेंगे। समस्या लगातार बनी रहने पर एंडोस्कोपी करवाना पड़ सकता है।

अब बिमारियों को चटा देगा चूर्ण और आपको देगा हैल्थी लाइफ… डॉ. नुस्खे बेल  beal churn घर बैठे ऑर्डर करने के लिए क्लिक करें करे https://waapp.me/wa/TFapcmpp

डॉ. नुस्खे weh on घर बैठे ऑर्डर करने के लिए क्लिक करें करे https://waapp.me/wa/TCiKoAG3

डॉ. नुस्खे tenswin tablet घर बैठे ऑर्डर करने के लिए क्लिक करें करे https://waapp.me/wa/h8jz1FWf

ankit1985

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सर्दी के सभी इंफेक्शन्स में ये एक उपाय

Thu Aug 13 , 2020
पेट में जलन आम समस्या है, लेकिन ऐसा बार-बार हो तो परेशानी बढ़ सकती है। से जुड़ीं ऐम्स की डॉ.nuskhe  के अनुसार, पेट की जलन को एसिडिटी कहा जाता है। आमतौर पर यह जलन छाती या सीने में होती है। पाचन के दौरान निकलने वाले अम्ल के कारण ऐसा होता […]
Loading...
Loading...