घरेलू उपाय: ये है बूढ़ो को जवान बनाने वाली स्पेशल आयुर्वेदिक

Ayurveda | आयुर्वेद

आयुर्वेद प्राचीन भारतीय प्राकृतिक और समग्र वैद्यक-शास्र चिकित्सा पद्धति है। जब आयुर्वेद का संस्कृत से अनुवाद करे तो उसका अर्थ होता है “जीवन का विज्ञान” (संस्कृत मे मूल शब्द आयुर का अर्थ होता है “दीर्घ आयु” या आयु और वेद का अर्थ होता हैं “विज्ञान”।

एलोपैथी औषधि (विषम चिकित्सा) रोग के प्रबंधन पर केंद्रित होती है, जबकि आयुर्वेद रोग की रोकथाम और यदि रोग उत्पन्न हुआ तो कैसे उसके मूल कारण को निष्काषित किया जाये, उसका ज्ञान प्रदान करता है।

डॉ. नुस्खे extra पावर किट हर पुरुष की पहली पसंद💏
https://waapp.me/wa/xaK1kDC9

आयुर्वद का ज्ञान पहले भारत के ऋषि मुनियों के वंशो से मौखिक रूप से आगे बढ़ता गया उसके बाद उसे पांच हजार वर्ष पूर्व एकग्रित करके उसका लेखन किया गया। आयुर्वेद पर सबसे पुराने ग्रन्थ चरक संहिता, सुश्रुत संहिता और अष्टांग हृदय हैं। यह ग्रंथ अंतरिक्ष में पाये जाने वाले पाँच तत्व-पृथ्वी, जल वायु, अग्नि और आकाश, जो हमारे व्यतिगत तंत्र पर प्रभाव डालते हैं उसके बारे में बताते हैं। यह स्वस्थ और आनंदमय जीवन के लिए इन पाँच तत्वों को संतुलित रखने के महत्व को समझते हैं।

आयुर्वेद के अनुसार हर व्यक्ति दूसरों के तुलना मे कुछ तत्वों से अधिक प्रभावित होता है। यह उनकी प्रकृति या प्राकृतिक संरचना के कारण होता है। आयुर्वेद विभिन्न शारीरिक संरचनाओं को तीन विभिन्न दोष मे सुनिश्चित करता है।

डॉ नुस्खे horse power Kit ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लि https://waapp.me/wa/5p4FvQPN

 

 

  • वात दोष जिसमे वायु और आकाश तत्व प्रबल होते हैं।
  • पित्त दोष: जिसमे अग्नि दोष प्रबल होता है।
  • कफ दोष: जिसमे पृथ्वी और जल तत्व प्रबल होते हैं।

दोष सिर्फ किसी के शरीर के स्वरुप पर ही प्रभाव नहीं डालता परन्तु वह शारीरिक प्रवृतियाँ (जैसे भोजन का चुनाव और पाचन) और किसी के मन का स्वभाव और उसकी भावनाओं पर भी प्रभाव डालता है। उदाहरण के लिए जिन लोगो मे पृथ्वी तत्व और कफ दोष होने से उनका शरीर मजबूत और हट्टा कट्टा होता है। उनमे धीरे धीरे से पाचन होने की प्रवृति, गहन स्मरण शक्ति और भावनात्मक स्थिरता होती है। अधिकांश लोगो मे प्रकृति दो दोषों के मिश्रण से बनी हुई होती है। उदाहरण के लिए जिन लोगो मे पित्त कफ प्रकृति होती है, उनमे पित्त दोष और कफ दोष दोनों की ही प्रवृतिया होती है परन्तु पित्त दोष प्रबल होता है। हमारे प्राकृतिक संरचना के गुण की समझ होने से हम अपना संतुलन रखने हेतु सब उपाय अच्छे से कर सकते है।

आयुर्वेद किसी के पथ्य या जीवन शैली (भोजन की आदते और दैनिक जीवनचर्या) पर विशेष महत्त्व देता है। मौसम मे बदलाव के आधार पर जीवनशैली को कैसे अनुकूल बनाया जाये इस पर भी आयुर्वेद मार्गदर्शन देता है।

श्री श्री आयुर्वेद अस्पताल में हुए इलाज का अनुभव – आयुर्वेद के उपचार से ८ साल के बाद पहली बार खाया खाना

डॉ नुस्खे shakti verdhak power Kit ऑर्डर ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें

https://waapp.me/wa/tkpx2Qn1

आयुर्वेदिक चिकित्सा का वर्गीकरण | Principles of Ayurveda

आयुर्वेद में इलाज शोधन चिकित्सा और शमन चिकित्सा में विभाजित किया जा सकता है यानी क्रमशः परिशोधक और प्रशामक चिकित्सा।

शोधन चिकित्सा में शरीर से दूषित तत्वों को शरीर से निकाला जाता है। इसके कुछ उदाहरण है – वमन, विरेचन, वस्ति, नस्य।

शमन चिकित्सा में शरीर के दोषों को ठीक किया जाता है और शरीर को सामान्य स्थिति में वापस लाया जाता है। इसके कुछ उदाहरण है- दीपन, पाचन (पाचन तंत्र) और उपवास आदि। यह दोनों चिकित्सा प्रकार शरीर में मानसिक व शारीरिक शांति बनाने के लिए आवश्यक हैं।

बेंगलुरु में स्थित, श्री श्री आयुर्वेदिक चिकित्सा केंद्र, एक ऐसा अस्पताल है जहाँ पर आयुर्वेदिक तरीके से जीवन जीना सिखाया जाता है। यहाँ पर लोग शांतिप्रिय जीवन जीने का तरीका सीख सकते हैं।

 डॉ नुस्खे bheem power Kit ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें https://waapp.me/wa/1x6BTwTK

आयुर्वेदिक चिकित्सा शरीर शुद्धि | Ayurvedic Therapies for Body Purification

  • अभ्यंग | Abhyanga
  • उज्हिचिल |Uzhichil
  • पिज्हिचिल | Pizhichil
  • मर्म चिकित्सा | Marma Therapy
  • शिरोधारा |Shirodhara
  • चेहरे का मर्म |Facial Marma
  • मेरु चिकित्सा |Meru Chikitsa
  • स्नेहन /स्नेह्पान |Snehana/ Snehapana
  • स्वेदन / स्वेद चिकित्सा | Svedana/Sweat Therapy
  • नस्य | Nasya
  • विरेचन | Virechana
  • पद अभ्यंग /फुट मालिश |Pada Abhyanga/ Foot Massage
  • पिंड स्वेद | Pinda Sweda
  • तलपोथिचिल /शिरोलेप |Thalapothichil, Shirolepa
  • शीरोवस्ति | Shirovasti
  • ओस्टीओपेथी |Osteopathy

डॉ नुस्खे काम dev पावर कीट ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें

https://waapp.me/wa/nrBr1kPp

ankit1985

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

इलायची के फायदे, गुण एवं घरेलू उपचार

Sat Mar 21 , 2020
Ayurveda | आयुर्वेद आयुर्वेद क्या है? | What is Ayurveda? आयुर्वेद प्राचीन भारतीय प्राकृतिक और समग्र वैद्यक-शास्र चिकित्सा पद्धति है। जब आयुर्वेद का संस्कृत से अनुवाद करे तो उसका अर्थ होता है “जीवन का विज्ञान” (संस्कृत मे मूल शब्द आयुर का अर्थ होता है “दीर्घ आयु” या आयु और वेद […]
Loading...
Loading...