सर ,घरवालों की रजामंदी के बगैर मुझे अपनी गर्लफ्रेंड से विवाह कर लेना चाहिए

सवाल

मैं और मेरी गर्लफ्रैंड विवाह करना चाहते हैं. घर वाले राजी नहीं हैं. क्या हमें घरवालों की रजामंदी के बगैर विवाह कर लेना चाहिए?

जवाब

आप दोनों अगर बालिग हैं और अपने पैरों पर खड़े हैं तो घर वाले आप दोनों के विवाह के लिए क्यों राजी नहीं हैं? क्या आप का मामला अंतर्जातीय विवाह का है? अगर आप दोनों बालिग हैं, अपने पैरों पर खड़े हैं, एकदूसरे को अच्छी तरह जानते व समझते हैं और लगता है कि एकदूसरे के साथ खुशहाल जिंदगी गुजार सकते हैं, तो विवाह कर लें. पर ध्यान रहे, आगे चल कर कोई भी समस्या हुई तो आप दोनों ही उस के लिए जिम्मेदार होंगे. प्यार में बड़ा दम होता है, वह बहुत सी समस्याओं का हल खुद है लेकिन जमीनी समस्याओं का. पर शारीरिक आकर्षण कहीं विवाह बाद फीका न पड़ जाए, यह आशंका रहती है. इसलिए आप ऐसा न होने दें.

धर्म, संस्कृति व जाति से परे अंतर्राष्ट्रीय विवाह

टैक्नोलौजी बूम के इस दौर में ग्लोबल विलेज में तबदील होती दुनिया में शादियां भी तेजी से ग्लोबल होती जा रही हैं. अब अंतर्धार्मिक, अंतर्जातीय, अंतर्सांस्कृतिक, अंतर्राष्ट्रीय हर तरह की जोडि़यां बन रही हैं. भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने 5 फरवरी, 2018 को एक मामले के फैसले में साफ कह दिया है कि 2 वयस्कों की शादी में किसी तीसरे का दखल गैरकानूनी है. हालांकि विश्व के अन्य देशों में ऐसे कानून पहले से ही लागू हैं.

यों तो अमेरिका में भारतीय वर्षों से बस रहे हैं पर 1990 के बाद आए टैक्नोलौजी बूम के बाद अमेरिका में काफी संख्या में भारतीय आने लगे हैं. पुराने बसे भारतीयों की पहली पसंद की बहू तो भारतीय लड़की ही होती थी. पर 1990 के बाद अमेरिका आने वालों में से कुछ ने यहीं शादी की है. इन्हें अपनी शादी से संबंधित कुछ समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है. विशेषकर जब वे दूसरे धर्म या समुदाय में शादी करना चाहते हैं.

मातापिता की मानसिकता

अमेरिका में बसे भारतीय मूल के मातापिता, जिन की शादियां दशकों पहले हो चुकी थीं, उन में अंतर्जातीय लवमैरिज विरले ही होती थीं. दूसरे धर्म में शादी तो दूर की बात है. उनकी अरेंज्ड मैरिज होती थीं और ज्यादातर सफल ही होती थीं. इन में से लाखों ने सिल्वर जुबली, गोल्डन जुबली और कुछ ने डायमंड जुबली भी मनाई होंगी. उनकी मानसिकता अभी भी वही है कि जब हम अरेंज्ड मैरिज निभा सकते हैं तो हमारे बच्चे क्यों नहीं.

उन्हें डर है कि समाज क्या कहेगा या यह परिवार पर एक कलंक सा है. उन्हें लगता है कि अगर कोई बेटा या बेटी लवमैरिज करती है तो बाकी और परिवार के छोटे बच्चों की शादी में मुश्किल होगी, वे अपने बच्चों से काफी उम्मीद लगाए रहते हैं. उन्हें यह भी डर रहता है कि इस तरह की शादी से उनकी आशाएं धूमिल हो जाएंगी.

उनकी समझ में नहीं आ रहा है या वे समझना ही नहीं चाहते कि जमाना काफी बदल गया है. पहले वे पत्नी पर जिस तरह का दबाव रखते थे, आजकल की पढ़ी लिखी, कमाऊ बहू उसे बरदाश्त नहीं करेगी. यहां तक कि खुद उनके बच्चे भी अब ज्यादा स्वतंत्र होना चाहते हैं और अपनी खुशी से ही जीवनसाथी चुनना चाहते हैं.

अगर मातापिता नहीं मानते तो वे बगावत पर उतर आते हैं. चूंकि वे वयस्क हैं, इसलिए वे उनकी इच्छा के विरुद्ध लवमैरिज कर लेते हैं और कानून इसे मान्यता देता है. इस से मातापिता और बच्चों सभी को मानसिक क्लेश होता है, इस में दो मत नहीं हैं.

ज्यादातर मामलों में मातापिता भी आगे चल कर इन्हें स्वीकार कर लेते हैं. बच्चों की खुशी के लिए मातापिता शुरू से ही समझदारी दिखाएं तो रिश्तों में खटास की नौबत ही नहीं आएगी.

भावनात्मक लगाव में कमी

आधुनिकता और औद्दोगिकीकरण के युग में अभिभावक बच्चों को अपना ज्यादा समय नहीं दे पाते हैं. इसलिए बच्चों के साथ भावनात्मक रूप से उनके जुड़े होने में कमी आती है और बच्चे बड़े होकर अपने साथी में यह आत्मीयता ढूंढ़ते हैं और अमेरिका की तो बात ही कुछ और है.

जो युवा विदेश खासकर अमेरिका में बस गए हैं वे यहां के मुक्त और स्वच्छंद समाज में रहने के आदी हो गए हैं. इन के बच्चे तो बचपन से एलिमैंट्री स्कूल से लेकर कालेज की पढ़ाई और नौकरी तक अमेरिकी कल्चर में करते हैं. इन्हें अपनी पसंद में जाति, धर्म या नस्ल का कोई बंधन स्वीकार नहीं होता है.

प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ यह ब्लडप्रेशर नियंत्रित करता है और अपने एंटी इंफ्लेमटरी एवं एंटी फंगल गुणों के कारण शरीर की अंदरूनी सफाई कर  कई बीमारियों से बचाए रखता है।
इसमें मौजूद भरपूर कार्बोहाइड्रेट शरीर की कमजोरी को दूर कर शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है। यह ब्लड शुगर को नियंत्र‍ित करने में भी मददगार है और कब्ज से भी बचाता है।

फ्री हेल्थ नुस्खे ग्रुप से जोड़े रोज़ पाए आयुर्वैदिक नुस्खे शेयर करना ना भूलें न्यू ग्रुप

https://www.facebook.com/groups/193194158801741/?ref=share

जिन लोगों को ये तीन सेक्स समस्यायें हों,

1 – लिंग का , छोटा ,पतला होना या टेढ़ा होना ।

2 – हस्तमैथुन की वजह से लिंग का आकार छोटा रह जाना ।

3 – सेक्स करते वक्त, लिंग में कड़ापन ना आना, या फिर कड़ापन आते ही तुरन्त ढीला हो जाना तथा ,, शीघ्रपतन की बीमारी होना ।

धातु रोग, मर्दाना कमजोरी, देर तक नहीं टिकना 1 मिंट में निकल जाने की समस्या, शुक्राणु के पतलेपन की आयुर्वेदिक उपचार डॉ नुस्खे हॉर्स पावर किट ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें Whatsapp 91-8447832868 https://waapp.me/wa/3ZMEaDAn9

वज़न घटाने की आयुर्वेदिक उपचार Dr. Nuskhe Medwin Fat loss किट
ऑर्डर करने के लिए क्लिक करें https://waapp.me/wa/3N3KG69z5

अस्थमा, दमा, खांसी और कफ की आयुर्वेदिक उपचार किट ऑर्डर करने के लिए लिंक पर Click करें https://waapp.me/wa/wHY38CxZ

शुगर, मधुमेह की समस्या की आयुर्वेदिक उपचार Dr. Nuskhe Glucowin Kit ऑर्डर करने के लिए क्लिक करें https://waapp.me/wa/wEN74Pqf

किडनी या गॉल ब्लैडर में पथरी को आयुर्वेदिक उपचार किट से खत्म करने के लिए Dr. Nuskhe Stone Killer किट
ऑर्डर करने के लिए क्लिक करें https://waapp.me/wa/PqrXTbGs

हाई ब्लड प्रेशर, मानसिक तनाव, नींद नहीं आने की समस्या की आयुर्वेदिक उपचार Dr. Nuskhe Tenswin Kit ऑर्डर करने के लिए क्लिक करें https://waapp.me/wa/PqrXTbGs

निल शुक्राणु की आयुर्वेदिक उपचार औषधि किट घर बैठे आर्डर करने के लिए व्हाट्सप्प 8447832868  करें

ankit1985

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मेरे पति बात बात पर लड़ाई करते है गालियां देते उसके के बाद वे कई दिनों के लिए बाहर चले जाते करते है

Fri Aug 7 , 2020
सवाल मैं और मेरी गर्लफ्रैंड विवाह करना चाहते हैं. घर वाले राजी नहीं हैं. क्या हमें घरवालों की रजामंदी के बगैर विवाह कर लेना चाहिए? जवाब आप दोनों अगर बालिग हैं और अपने पैरों पर खड़े हैं तो घर वाले आप दोनों के विवाह के लिए क्यों राजी नहीं हैं? […]
Loading...
Loading...