Loading...

अस्थमा और खांसी

इन दोनों के बीच के संबंध जानने से पहले हम यह जान लेते है कि खांसी और अस्थमा क्या हैं। खांसी आपके फेफड़ों से वायरस, बैक्टीरिया, या स्राव जैसे हानिकारक कणों को हटाने के लिए शरीर का एक स्वाभाविक प्रतिक्रिया है। जबकि अस्थमा वह बीमारी है जिसमें आपके फेफड़ों और इसके चारों ओर वायुमार्ग पर दबाव पड़ता है जिससे की सांस लेना भी मुश्किल हो जाता है। यह कभी-कभी होता है लेकिन हमेशा एक घरघराहट ध्वनि के साथ होता है।

खांसी संस्करण अस्थमा

खांसी जो अस्‍थमा के कारण होती है, खांसी का वह प्रकार है जिसमें श्लेष्म उत्पादन नहीं करता है। जो लोग अस्थमा के इस प्रकार से पीड़ित है, उनमें अस्‍थमा के अन्‍य लक्षण जैसे सांस या घरघराहट की तकलीफ दिखाई नही देती है। कोई भी खांसी अधिक से अधिक 6 से 8 सप्ताह तक रहती है तो उसे अस्थमा या पुरानी खांसी कहा जाता है। जो लोग अस्थमा के इस प्रकार से पीड़ित होते है, आम तौर पर यह नोटिस किया जाता है कि उनके लक्षण रात में बढ़ जाते हैं।

अस्थमा खांसी के लिए अच्‍छा नही है

अस्थमा अक्सर आवर्तक खांसी के लिए गलत होता है। जब ऐसा होता है, तो लक्षणों को गंभीरता से नहीं लिया जाता है जैसे उन्हें लेना चाहिए।  अक्सर यह केवल खांसी के रूप में लिया जाता है और आवश्यक उपचार समय पर नहीं दिया जाता है। आपको खांसी के लक्षणों से विशेष रूप से सावधान रहना चाहिए अगर आपके परिवार का अस्‍थमा का इतिहास है।

यह अस्थमा के मरीज के हित में होगा अगर वह खांसी और अस्थमा के बीच अंतर का एहसास कर सकें, और शीघ्र उपचार आरंभ कर सकें।

क्या आप बवासीर से परेशान है तो आयुर्वेदिक मेडिसन आर्डर करने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करे या Call/Whatsapp 7428858589 

http://wassmee.us/w/?c=463a

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Loading...