Loading...
Loading...
Loading...

एक चर्च जो बना है 70000 लोगो की हड्डियों से !! ये है दुनिया का सबसे खतरनाक और डरावना चर्च

By on September 12, 2017

दुनिया में कई चर्च अपनी खूबसूरती के लिए फेमस है। वैसे चर्च को पूजा का स्थल माना जाता है, लोग यहाँ परमात्मा से अपनी मुरादे माँगने आते हैं। वैसे चर्च एक से एक सुंदर भी हैं, प्राचीन चर्चों को देखें तो उनकी सुंदरता अविस्मरणीय है। एक ऐसे ही सुंदर चर्च के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं, यह सुंदर तो है पर एक बात इसे डरावना बना देती है वह है इसका चालीस हजार मानव हड्डियों से सजना। सुनकर थोडा अजीब लग रहा है ना। लेकिन यह सच है दुनिया में एक ऐसा चर्च भी मौजूद है जिसमें हज़ारो लोगो की हड्डियों और कंकालों को सहज कर रखा गया है।

Loading...

चेक गणराज्य में स्थित सेडलेक ऑस्युअरी चर्च में हजारों की संख्या में पर्यटक पहुंचते हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह है यहां नजर आने वाले नर कंकाल, ये कंकाल इतनी बड़ी संख्या में हैं कि चर्च का हर कोना सिर्फ कंकालों से घिरा हुआ है, लेकिन पहले ये चर्च नर कंकालों से भरा हुआ नजर नहीं आता थाए इसकी शुरुआत 13वी शताब्दी में हुई।

loading...

इस चर्च को सेडलेक ऑस्युअरी चर्च के नाम से भी जाना जाता है। आज यह जगह ऑस्युअरी कहलाती है। सबसे पहले यहां शवों की अस्थाई रूप से कब्र बनाई जाती कहा जाता है कि 13वीं शताब्दी में एक संत हेनरी को पेलेस्टीना नाम की जगह भेजा गया था। वापस आने के दौरान हेनरी ने उस जगह जाकर मिट्टी उठा ली जहां पर कभी प्रभु यीशु को सूली पर चढ़ाया गया था। उस मिट्टी को उन्होंने वापस आने के बाद एक कब्रिस्तान में डाल दियाए तब से ही लोग बड़ी संख्या में यहां अपने परिजनों को दफनाने लगेहै। बाद में कुछ सालों बाद उनकी हड्डियां निकाल कर यहां चर्च में ऑस्युअरी में रखी जाती हैं।

लेकिन, फिर जो हुआ उसने इस चर्च का चेहरा ही बदल दिया। 14वीं और 15वीं शताब्दी में इस जगह पर प्लेग और युद्ध का आतंक फैल गया। इस दौरान हजारों की संख्या में लोगों की मौत हुई और उन्हें सेडलेक में ही दफनाया जाने लगा। और देखतें ही देखते पूरी जगह शमशान बन गई।

loading...

ऐसा कहा जाता है कि यह दुनिया का सबसे खौफनाक चर्च है। यहां संत इसाई पादरी अनंत काल के लिए विश्राम कर रहे हैं। लेकिन जब यहां जगह नहीं बची तो संतों ने कब्र में से हड्डियों को निकाल कर ऑस्युअरी में रख दिया। यह वह जगह है जहां कब्र से कंकालों को निकालकर एक साथ रख दिया जाता है।

जगह की किलल्त को देखते हुए यहां पर एक चर्च बनाने का ख्याल आया। तब यह कार्य वहा के संतो को सौंप दिया जो की कब्र में से हड्डियों को निकाल कर चर्च में रख देते थे। पर 1870 में करीब 40000 लोगों की इन हड्डियो को कलात्मक रूप से सजाया गया और यह काम फ्रंटीसेक रिंड ने किया था।

वर्ष 1870 में फ्रेंटीसेक राइंड ने करीब 70 हजार लोगों की हड्डियों को कलात्मक रूप से चर्च में सजाया। बाद में लोग इसे चर्च ऑफ बोन्स के नाम से जानने लगे। इस चर्च को देखने हर साल 2 लाख से ज्यादा लोग पहुंचते हैं।

चेक गणराज्य,सेडलेक ऑस्युअरी चर्च,चर्च,पूजा का स्थल,दुनिया का सबसे खतरनाक और डरावना चर्च,चर्च जो बना है 70000 लोगो की हड्डियों से,हड्डियों और कंकालों से बना चर्च

 

loading...

अब पायें अपडेट्स अपने WhatsApp पर प्लीज़ अपना नाम इस नंबर +91-8447832868 पर सीधा भेजें और अपने दोस्तों को बताना ना भूलें...

About Street Ayurveda

Close