Loading...
Loading...
Loading...

पुरुष शारीरिक क्षमता बढ़ाने के लिए जरूर करें इसका प्रयोग

By on May 30, 2017

सफेद मूसली भी ऐसी ही एक जड़ी-बूटी है, जो शारीरिक क्षमता बढ़ाने के लिये मशहूर है, हालांकि इसके गुणों को लेकर कोई वैज्ञानिक साक्ष्‍य मौजूद नहीं हैं, लेकिन इसके प्रयोग से शारीरिक क्षमता बढ़ती है।
1
सफेद मूसली, फायदे और नुकसान
भारत प्राचीन काल से ही सांस्कृतिक धरोहर के साथ जड़ी-बूटियों के लिए भी प्रसिद्ध रहा है। यहां विभिन्न औषधीय पौधे पाए जाते हैं। इसी लिये यहां विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों जैसे, आयुर्वेद, यूनानी, प्राकृतिक चिकित्सा आदि प्राचीन काल से ही न केवल चलन में हैं बल्कि विज्ञान और तकनीक के विकास के बाद भी इनकी प्राथमिकता कम नहीं हुई है। सफेद मूसली भी ऐसी ही एक जड़ी-बूटी है, जो शारीरिक क्षमता बढ़ाने के लिये काफी मशहूर है। हालांकि इसके गुणों को लेकर कोई वैज्ञानिक साक्ष्‍य मौजूद नहीं हैं। तो चलिये जानें सफेद मूसली के फायदे और नुकसान क्या हैं।

Loading...

2
शीघ्रपतन का उपचार
सफेद मूसली शीघ्रपतन के देसी इलाज के काफी मशहूर है। कौंच के बीज, सफेद मूसली और अश्वगंधा के बीजों को बराबर मात्रा में मिश्री के साथ मिलाकर बारीक चूर्ण बनाकर एक चम्मच चूर्ण सुबह और शाम एक कप दूध के साथ लेने से शीघ्रपतन और वीर्य की कमी जैसी समस्याएं दूर हो जाती हैं।

loading...

इस चूर्ण को सुबह और शाम को १ गिलास दूध के साथ सेवन करने से कमजोर से कमजोर मनुष्य भी निरोगी और हष्ट पुष्ट हो जाता है. सुनथि, अश्वगंधा, शतावरी, विदारीकंद, सफ़ेद मूसली, आत्मगुप्ता, अर्जुन, आमलकी को मिलकर बनाया गया ख़ास मिश्रण कमजोर और डायबिटीज से परेशान लोगो के लिए रामबाण आयुर्वेदिक खोज है. आयुर्वेद के अनुसार पहला सुख निरोगी काया है और अगर आप भी निरोगी काया पाना चाहते हैं और अंग्रेजी दवाइयों से खुद को छुटकारा दिलाना चाहते हैं तो आज से ही अपने दैनिक जीवन में शामिल करें डॉ. नुस्खे शक्तिवर्धक योग और पाएं खुद को पहले से बेहतर और रोग मुक्त.

3
दवाइयां बनाने में
सालों से विभिन्न दवाइयो के निर्माण में भी सफेद मूसली का उपयोग किया जाता है। मूलतः यह एक ऐसी जडी-बूटी है जिससे किसी भी प्रकार की शारीरिक शिथिलता को दूर करने की क्षमता होती है। यही कारण है की कोई भी आयुर्वेदिक सत्व जैसे च्यवनप्राश आदि इसके बिना संम्पूर्ण नहीं माने जाते हैं।

4
शिलाजीत की संज्ञा
यह इतनी पौष्टिक तथा बलवर्धक होती है की इसे शिलाजीत की संज्ञा भी दी जाती है। चीन, उत्तरी अमेरिका में पाये जाने वाले इस पौधे, जिसका वानस्पतिक नाम पेनेक्स जिंन्सेग है का विदेशों में फलेक्स बनाये जाने पर भी काम कर रहे हैं।हनीमून को लेकर कभी न करें ये 5 गलतिया

loading...

5
शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने में
सफेद मुसली पुरुषों को शारीरिक तौर पर पुष्ट बनाने के अलावा वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने में भी मदद करती है। यही नहीं, कई शोध अपने परिणाम बताते हैं कि डायबिटीस के बाद होने वाली नपुंसकता में भी सफेद मुसली सकारात्मक असर करती पाई गई है।

6
कामोत्तेजना बढ़ाने में
कामोत्तेजना बढ़ाने में भी मूसली काफी लाभदायक होती है। इसके लिये कौंचबीज चूर्ण, सफेद मूसली, तालमखाना, अश्वगंध चूर्ण को बराबर मात्रा में तैयार कर 10 ग्राम ठंडे दूध के साथ सेवन करना होता है। ये काफी कारगर नुस्खा माना जाता है।

7
प्रमाणों की कमी
कुन्नथ फार्मास्युटिकल्स अपनी वेबसाइट पर ये दावा करते हैं कि मूसली पावर एक्स्ट्रा के कोई ज्ञात नकारात्मक साइड इफेक्ट नहीं हैं और क्योंकि यह पूरी तरह कार्बनिक हर्बल सामग्री से बनाया जाता है, इसलिये मानव उपभोग के लिए सुरक्षित है। कंपनी दावा करती है कि इस उत्पाद को उच्च रक्तचाप, रुमेटी गठिया वाले तथा स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए भी इसका सेवन सुरक्षित है, हालांकि इस संबंध में उन्होंने कोई चिकित्सकीय प्रमाण नहीं दिया।500 और 1000 के बाद अब सरकार 100 रूपए के नोट करेगी बंद!!

8
आयुर्वेद में मशहूर
आयुर्वेद में सफेद मूसली को सौ से अधिक दवाओ के निर्माण में उपयोग के कारण दिव्य औषधि के नाम से जाना जाता है। यह एक सदाबहार शाकीय पौधा है। समशीतोष्ण क्षेत्र में यह प्राकृतिक रूप से पाया जाता है। विश्व बाजार में इसकी बहुत मांग बढी हुई है जो 35000 टन तक प्रतिवर्ष आँकी गई है किन्तु इसकी उपलब्धता 5000 टन प्रतिवर्ष है।

loading...

अब पायें अपडेट्स अपने WhatsApp पर प्लीज़ अपना नाम इस नंबर +91-8447832868 पर सीधा भेजें और अपने दोस्तों को बताना ना भूलें...

About Street Ayurveda

Close