Loading...

    पथरी का आयुर्वेदिक इलाज 

हमारे देश में लोगों को कई तरह तरह की बीमारी हो जाती है जिसमें से गुर्दे में पथरी (kidney stones treatment in hindi) होने की समस्या बहुत ही भयंकर भयानक है जो कि आजकल किसी को भी हो सकती है और पथरी यदि किसी को हो जाती है तो बहुत से बहुत ही ज्यादा दर्द होता है और इससे पेट से जुड़ी गंभीर बीमारियां भी हो जाती हैं और यदि आप इस दर्द से बचना चाहते हैं तो Kidney stones पथरी का आयुर्वेदिक इलाज कराएं क्योंकि मेडिकल ट्रीटमेंट के द्वारा इसका इलाज तो किया जा सकता है लेकिन इसमें बहुत ज्यादा खर्च हो जाता है लेकिन मेडिकल ट्रीटमेंट से भी अच्छा और बेहतर पथरी का आयुर्वेदिक इलाज है क्योंकि आयुर्वेद में कई रोगों को ठीक करने की विधि बताई गई है.

 

पथरी का आयुर्वेदिक इलाज जाने से पहले हमें यह जानना जरूरी है कि पथरी शरीर में गुर्दे में होती जाते हैं पथरी होने का मुख्य कारण है हमारी पाचन क्रिया का खराब होना हम रोजाना जो भी भोजन करते हैं उसे यदि हमारा पाचन तंत्र ठीक तरीके पचा नहीं पाता है तो यह भोजन जो ठीक तरह से पचा नहीं है वह मूत्रद्वार मेरी खट्टा होने लगता है जिससे पेशाब गाड़ी हो जाती है और यह प्रक्रिया ज्यादा दिनों तक होने के कारण धीरे-धीरे यह पदार्थ बारिश पत्थर और रेत में बदल जाते हैं लेकिन यह छोटे-छोटे कण दर्द नहीं देते हैं लेकिन यह कह मूत्र मार्ग से निकलने में बहुत ज्यादा दर्द देते हैं.

Kidney stone – पथरी का आयुर्वेदिक इलाज

पेट में गुर्दे में पथरी है या नहीं इसका पता कैसे लगाएं पथरी के कुछ लक्षण हैं जैसे गुर्दे में यदि पथरी हो जाती है तो दर्द रह-रहकर होता है जैसे अचानक दर्द हो जाता है 10 – 10 मिनट के अंतराल में दर्द होता है पथरी होने पर कमर में भी दर्द होता है और पेशाब करने में भी बहुत ज्यादा तकलीफ होती है और आपके पेशाब का रंग पीला या गंदा हो जाता है और आपके पेशाब में से बहुत ही गंदी बदबू आने लगती है आप को बुखार आ जाता है उल्टी होने लगती है या रुक-रुक कर पेशाब आने लगता है पथरी का दर्द बहुत ही असहनीय होता है इसमें ना तो आप ठीक तरह से बैठ पाते हैं ना ही ठीक तरह से खड़े हो पाते हैं और कुछ लोग तो सो भी नहीं पाते हैं तो यह कुछ लक्षण है पत्री के बनने के जिन्हें आप आसानी से पहचान सकते हैं.

यदि आप पथरी का आयुर्वेदिक इलाज (Kidney stones) करना चाहते हैं और अपनी पथरी को कुछ ही दिनों में खत्म करना चाहते हैं तो आप इस सब्जी का इस्तेमाल करें तोरई एक प्रकार की सब्जी होती है जो कि ज्यादातर हमारे भारत में ही पाई जाती है इसमें कई सारे पोषक तत्व होते हैं इसीलिए इसकी तुलना नेनुआ से भी की जाती है और ज्यादातर तोरई की सब्जी का उत्पादन वर्षा ऋतु में किया जाता है तोरई मीठी भी होती है और कड़वी भी होती है.

 

और तोरई के अंदर प्राकृतिक ठंड होती है जोकि बहुत ही फायदेमंद होती है तोरई के कुछ बहुत ही अद्भुत फायदे हैं यदि आप तोरई की बेल को काट ले और इसे गाय के दूध या ठंडे पानी में रोज सुबह खींचकर 3 दिनों तक इसका सेवन करते हैं तो आपके शरीर के भीतर जमी हुई पथरी (Kidney stones) गलकर खत्म हो जाती है और इतना ही नहीं यह आपके बवासीर की बीमारी को भी दूर करने में मदद करती है और आपके कब्ज को भी दूर करती है.

यदि आप पथरी को जड़ से खत्म करना चाहते हैं तो आप गेहूं के खाद का उपयोग करें क्योंकि गेहूं के घाट में मैग्नीशियम पोटेशियम, आयरन, अमीनो, एसिड और विटामिन बी बहुत ही प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं जो कि आपको जीवनभर निरोगी बनाने में मदद करते हैं और यदि आप रोजाना एक गिलास दूध में गेहूं की घास को मिलाकर इसका जूस बनाकर सुबह-शाम पीते हैं तो आप की पथरी खत्म हो जाती है.

 

 इन चीजों से पथरी ठीक तो होती है लेकिन वो भी कुछ दिनों के लिए और हम आपको ऐसी आयुर्वेदिक दवाई बता रहे है जो इन     चीजों से बहुत ही मत्वपूण और बहुत ही ताकत वर है इस आयुर्वेदिक दवाई से आपकी पथरी जड़ से ही ख़तम हो जायगी और इस   दवाई से आपकी पथरी तो ख़तम होगी ही होगी वे आपके सरीर में भी सुकून मिलेगा 
पथरी के आयुर्वेदिक उपाय के लिए  whatsapp 7827204210  करे  या लिंक पर क्लिक करे  https://qopi.me/880b1c

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Loading...