Loading...

शारीरिक श्रम के बाद थकावट महसूस करना सामान्य बात है, लेकिन थकान लंबे समय तक बनी रहे तो यह किसी गंभीर बीमारी का भी संकेत हो सकता है। ऐसे में जरूरी है कि थकान होने के तमाम कारणों और लक्षणों के बारे में जाना जाए और डॉक्टर से कंसल्ट कर इसका ट्रीटमेंट करवाया जाए।

अगर आप अक्सर थका हुआ महसूस करते हैं और आपमें ऊर्जा की कमी रहती है तो आप अकेले नहीं हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि 5 में से एक व्यक्ति हर समय हल्की थकान महसूस करता है और 10 में से एक लंबे समय तक रहने वाली थकान से परेशान रहता है।

कई लोगों में थकान कभी न खत्म होने वाली समस्या बन जाती है, इससे उनके जीवन की गुणवत्ता प्रभावित होती है। थकान की समस्या पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में ज्यादा होती है। थकान कई शारीरिक और मनोवैज्ञानिक कारणों से होती है।

थकान के कारण

1.शरीर का वजन सामान्य से अधिक या कम होना।

2.थायरॉयड ग्रंथि का ठीक तरह से काम नहीं करना।

3.हृदय रोग, मानसिक तनाव, चिंता, अनिद्रा, अवसाद।

4.अत्यधिक कैफीन या अल्कोहल का सेवन अनिद्रा बढ़ाता है, जिससे थकान होती है।

5.पेट और छाती का संक्रमण।

6.पावरफुल पेनकिलर का सेवन।

7.कैंसर का उपचार, जैसे रेडियोथेरेपी और कीमोथेरेपी।

8.डायबिटीज पीड़ितों में रक्त में शुगर का स्तर अत्यधिक बढ़ने से भी थकान होती है।

9.दवाइयों के साइड इफेक्ट विशेषकर माइग्रेन और हाई ब्लड प्रेशर को रोकने वाली दवाइयों में मौजूद रसायनों से।

10.डायरिया, एनीमिया और वायरल फीवर।

11.अत्यधिक मानसिक या शारीरिक श्रम करना।

12.विटामिंस और मिनरल्स की कमी।

13.गर्भावस्था।

थकान की समस्या अगर लंबे समय तक बनी रहे तो डॉक्टर को दिखाएं क्योंकि यह किसी गंभीर बीमारी का संकेत भी हो सकता है। थकान से एनीमिया, कैंसर, डायबिटीज, अस्थमा, हाइपोथायरॉयडिज्म, मल्टीपल स्कलेरोसिस, हृदय, यकृत या छाती की समस्या भी हो सकती है। 

थकान के लक्षण

1.शरीर में ऊर्जा की कमी।

2.शरीर में आलस्य महसूस होना और उत्साह की कमी।

3.अनिद्रा महसूस करना।

4.ध्यान केंद्रित करने की क्षमता कम होना।

5.निर्णय लेने में कठिनाई महसूस होना।

6.रोजमर्रा के काम करने में दिक्कत महसूस होना।

7.डिप्रेशन महसूस करना।

बचाव के उपाय

1.नियमित रूप से एक्सरसाइज करें। एक सप्ताह में कम से कम ढाई घंटे एक्सरसाइज करना स्वस्थ रहने के लिए जरूरी है।

2.ध्यान, योगा और डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज से शांत रहने की कोशिश करें।

3.पोषक भोजन का सेवन करें। जिसमें कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वसा, मिनरल और विटामिन संतुलित मात्रा में हों।

4.अपने भोजन में ज्यादा मात्रा में फल और सब्जियों को शामिल करें।

5.अनिद्रा थकान का प्रमुख कारण है। अपने सोने और उठने का एक नियत समय बनाएं।

6.कैफीन का सेवन कम करें। कैफीन सिर्फ चाय, कॉफी में ही नहीं कोल्ड ड्रिंक्स, पेन किलर और एनर्जी ड्रिंक्स में भी होता है।

7.अपने शरीर को ऊर्जावान बनाए रखने के लिए हर तीन से चार घंटे में कुछ खाएं।

8.अपना वजन औसत रखें, सामान्य से अधिक वजन से आपके दिल पर ज्यादा दबाव पड़ता है और आप जल्दी थक जाते हैं।

9.तनाव आपकी बहुत सारी ऊर्जा को नष्ट करता है। रिलैक्स रहने से आपकी ऊर्जा का स्तर बढ़ जाता है।

10.शराब का सेवन ना करें।

11.अगर आप पूरी नींद नहीं सो पाएंगे तब भी आप अगले दिन थकावट महसूस करेंगे।

12.पानी की कमी से भी आप थकान महसूस कर सकते हैं। एक गिलास पानी आपमें ऊर्जा का स्तर बढ़ा देगा। विशेषकर एक्सरसाइज करने के बाद।

13.तुरंत एनर्जी के लिए पानी पिएं, अगर थकान के साथ भूख भी लग रही हो तो केला खाएं।

14.नियत समय और अंतराल पर खाएंगे तो आपका शरीर उस अंतराल में ऊर्जा के स्तर को बनाए रखता है क्योंकि बॉडी क्लॉक को पता होता है कि अगला भोजन कब मिलेगा।

15.नाश्ता आपको पूरे दिन सक्रिय बने रहने के लिए ऊर्जा देता है। ऐसा नाश्ता करें जिसमें प्रोटीन और फाइबर की मात्रा अधिक और शुगर, फैट की मात्रा कम हो।

16.अत्यधिक शारीरिक श्रम से बचें इससे शरीर में तनाव उत्पन्न करने वाले हार्मोन कार्टिसोल का स्तर बढ़ जाता है।

एनर्जी ड्रिंक्स और सप्लीमेंट्स

कई लोग थकान महसूस होने पर एनर्जी ड्रिंक का सहारा लेते हैं, लेकिन एनर्जी ड्रिंक शुगर और कैफीन से भरपूर होते हैं, इसलिए ये आपको कुछ समय तक तो एनर्जी देते हैं, लेकिन यह कई समस्याएं उत्पन्न कर सकते हैं।

ज्यादा कैफीन के सेवन से ब्लड प्रेशर हाई हो सकता है जबकि शुगर वजन बढ़ाने का काम करती है। मल्टी विटामिन की गोलियां बिना डॉक्टर की सलाह के न लें। जहां तक संभव हो भोजन से ही विटामिन प्राप्त करें, गोलियों से नहीं। अपने भोजन में फलों और सब्जियों की मात्रा बढ़ा दें।

ये विटामिन, मिनरल और फाइबर से भरपूर होते हैं,कहने का मतलब है कि अगर आप थकान महसूस कर रहे हैं तो इसको अपनी डाइट और लाइफस्टाइल से दूर कर सकते हैं, लेकिन अगर इससे असर ना हो तो डॉक्टर से चेकअप करवाने में देर ना करें।

बच्चों में थकान

अनिद्रा से शरीर की जैविक क्रियाएं प्रभावित होती हैं और यही थकान का सबसे प्रमुख कारण है। पढ़ाई और अपेक्षाओं के बढ़ते बोझ से बच्चों की नींद प्रभावित हो रही है।

माता-पिता भी इस बात को नहीं समझ पाते कि वह छोटी उम्र में ही उन्हें प्रतिस्पर्धा में उतार कर उन पर अपेक्षाओं का बोझ लाद देते हैं, जिसके परिणाम हेल्थ प्रॉब्लम्स के रूप में सामने आते हैं।

बच्चों में थकान के अन्य कारणों में शामिल हैं-

1.अत्यधिक शारीरिक या मानसिक श्रम

2.पोषक तत्वों की कमी,

3.अपर्याप्त नींद, गले, छाती या आंत का संक्रमण

4. टीबी या किडनी रोग

5.रक्त कैंसर,थायरॉयड हार्मोन की गड़बड़ी

6.एनीमिया

7.विटामिन और मिनरल की कमी

कई बच्चों में टॉन्सिल के बढ़ने से रात में उनकी नींद बार-बार टूटती है और वे थका-थका महसूस करते हैं। इस वजह से बच्चों में थकान को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और तुरंत उनकी जांच करवानी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Loading...