नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। ‘एनीमिया’ यानी मानव के रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा मानक से कम होने की समस्या गर्भवती महिलाओं में सबसे अधिक पाया जाती है। आपको पसीना ज्यादा आता हो, पैरों और हाथों में सूजन हो, घबराहट के साथ सांस लेने में दिक्कत, थोड़ा चलने पर ज्यादा थकान होता हो या पिफर सुस्ती ज्यादा आती हो तो समझ लें कि यह हीमोग्लोबिन की कमी की वजह से ही हो रहा है। अगर आप हीमोग्लोबिन की कमी की समस्या से जूझ रहे हैं तो इन उपायों को आजमाइएं। इससे हीमोग्लोबिन की कमी दूर होगी।

हीमोग्लोबिन एक प्रोटीन है जो लाल रक्त कोशिकाओं (Red Blood Cells) में पाया जाता है। ये कोशिकाएं शरीर के चारों ओर ऑक्सीजन ले जाने का कार्य करती हैं। ऑक्सीजन के परिवहन के अलावा, हीमोग्लोबिन कोशिकाओं और फेफड़ों में कार्बन डाइऑक्साइड को बाहर निकालता है। कार्बन डाइऑक्साइड व्यक्ति द्वारा निकाली जाने वाली एक गैस है। हीमोग्‍लोबिन शरीर के लिए बहुत जरूरी है, इसकी कमी से शरीर में ऑक्‍सीजन को वहन करने की क्षमता कम हो जाती है। जिसके कारण शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की संख्‍या कम हो जाती है और एनीमिया होने की संभावना बढ़ जाती है। किडनी की ज्‍यादातर समस्‍यायें हीमोग्‍लोबिन की कमी के कारण ही हो

हीमोग्‍लोबिन की कमी (How to increase hemoglobin) को आहार के जरिये दूर किया जा सकता है। भोजन में अनेक पोषक तत्व होते हैं जो शरीर का विकास करते हैं, उसे स्वस्थ रखते हैं और शक्ति प्रदान करते हैं। हमें अपने आहार में हीमोग्लोबिन बढ़ाने वाले फल और सब्जियों को शामिल करना चाहिए। हीमोग्लोबिन को बढ़ाने के लिए संतुलित आहार, व्यायाम, भोजन में हरी सब्जियां, दालें, अनार आदि फल की जरूरत होती है। हीमोग्‍लोबिन को बढ़ाने और शरीर में खून की कमी को दूर करने के लिए निम्‍नलिखित खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

हीमोग्‍लोबिन को बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ

 

चुकंदर से प्राप्त उच्च गुणवत्ता का लोह तत्व रक्त में हीमोग्लोबिन का निर्माण व लाल रक्तकणों की सक्रियता के लिए बेहद प्रभावशाली है। खून की कमी यानी एनीमिया की शिकार महिलाओं के लिए चुकंदर रामबाण के समान है। चुकंदर के अलावा चुकंदर की हरी पत्तियों का सेवन भी बेहद लाभदायी है। इन पत्तियों में तीन गुना लौह तत्व अधिक होता है।