आयुर्वेद के इन टिप्स से करे मोटापे को जड़ से खत्म

किडनी में स्टोन हो जाने की वजह से पेट में हर वक्त दर्द बना रहता है. इसके अलावा बार-बार यूरि‍न जाना, इस दौरान दर्द होना, बहुत ज्यादा पसीना आना और उल्टी होना भी इसके लक्षण हैं. आप इन घरेलू उपायों को अपनाकर भी किडनी स्टोन से राहत पा सकते हैं . इसी के साथ ही ये बेहद जरूरी है कि आप नियमित रूप से 10 गि‍लास पानी पिएं. स्टोन होने की हालत में कम पानी पीना दर्द और तकलीफ की वजह बन सकता है .

लेमन जूस और ऑलिव ऑयलराजमा – बरसों से लेमन जूस और ऑलिव ऑयल को मिलाकर उसका सेवन गॉलब्लेडर के स्टोन के लिए किया जाता रहा है लेकिन किडनी के स्टोन में भी ये काफी कारगर है. नींबू के रस में मौजूद सिट्रिक एसिड कैल्शियम बेस वाले स्टोन को तोड़ने का काम करता है और दोबारा बनने से भी रोकता है. इस मिश्रण को बनाने के लिए नींबू के रस और ऑलिव ऑयल को बराबर मात्रा में लेकर मिला लें और दिन में दो से तीन बार लें.

सर्दियां आई नहीं कि हरी मटर की बहार आ जाती है. वैसे तो अब हरी मटर पूरे साल उपलब्ध रहती है. मटर में उच्च स्तर के एंटीऔक्सीडैंट शरीर की कई प्रतिक्रियाओं को रोकते हैं, जो गंभीर बीमारियों का कारण बन सकती हैं.

मटर लौह, कैल्शियम, जिंक, कौपर, मैगनीज आदि जैसे कई खनिजों की समृद्ध स्रोत है जो शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं.

हरी मटर कच्ची और पकी दोनों तरह से खाई जा सकती है. छोटेबड़े सब बड़े चाव से इसे खाते हैं. बाजार में ये फ्रोजन, डब्बाबंद मिलती है. मटर की सब्जी का स्वाद लाजवाब तो होता ही है, लेकिन यदि मटर किसी अन्य चीज के साथ मिला कर बनाई जाए तो उस डिश का भी कोई मुकाबला नहीं जैसे- मटरपुलाव, मटरपनीर, मटरपास्ता सलाद, भुना हुआ मटर सलाद, मटर सूप, मछली मटर सब से खास और स्वस्थ व्यंजन है.

1.वेट लौस : मटर में वसा और कैलोरी कम होती है इसलिए वजन कम करने के लिए शाकाहारी और मांसाहारी दोनों ही इसे अपने भोजन में शामिल करते हैं. हरी सब्जियां वैसे भी स्वास्थ्य के लिए अच्छी मानी जाती हैं, लेकिन मटर की बात करें तो यह वजन को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करता है.

2.पेट का कैंसर :  मटर के इन छोटे दानों में पेट के कैंसर जैसी भयानक बीमारी को रोकने की क्षमता है. क्यूमेस्ट्रौल नामक पौलीफेनौल सुरक्षात्मक तत्त्व हरी मटर में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो कैंसर को रोकने में प्रभावी है.

व्हीट ग्रास
व्हीट ग्रास (गेहूं की हरी घास) को पानी में उबालकर ठंडा कर लें. इस पानी को रोज पीने से किडनी के स्टोन और किडनी से जुड़ी दूसरी बीमारियों में काफी आराम मिलता है. इसमे कुछ मात्रा में नींबू का रस मिलाकर पीना और बेहतर हो सकता है.

पुदीना – ठंड के मौसम में अक्सर लोग चटनी बनाकर उसका सेवन करना पसंद करते हैं। तो क्यों ना आप ऐसी चटनी बनाएं जो शुगर को भी जड़ से खत्म कर दें। इसके लिए आप पुदीने की पत्तियां लेकर उसमें अदरक का टुकड़ा, लहसुन और खट्टा अनारदाना मिक्स करके पीसें और चटनी बनाएं। आप अपने खाने के साथ इस चटनी का सेवन करें। यकीन मानिए, आपकी डायबिटीज की बीमारी आपसे दूर भाग जाएगी।

2 रुपये की गोली से करें शुगर को कंट्रोल आज ही घर बैठे ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें और घर पर प्राप्त करें https://waapp.me/wa/LGTshXKM

जामुन – जामुन इंसुलिन रेग्युलेशन में काफी फायदेमंद साबित होती है। इसलिए आप जामुन खाने के साथ−साथ उसके पत्तों को सुबह−शाम चबाएं। कुछ ही दिनों में आपको फर्क नजर आने लगेगा।

पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में अनिद्रा की बीमारी बेहद आम है, जिसमें मरीज को नींद नहीं आती.

शोध दल ने वर्जीनिया एडल्ट स्टडीज ऑफ साइकियाट्रिक एंड सब्सटांस यूज डिस्ऑर्डर से प्राप्त आंकड़ों का विश्लेषण किया, जो लगभग 7,500 प्रतिभागियों के आंकड़े प्रस्तुत करता है. यह अध्ययन पत्रिका ‘स्लीप’ में प्रकाशित हुआ है.

सेक्स पावर बढ़ाने की और बीवी के साथ देर तक टिकने की आयुर्वेदिक उपचार किट आर्डर करने के लिए क्लिक करें

इस बात को 50 साल बीत चुके हैं जब अमेरिका के टेक्सास की गृहिणी टिमी ज्‍यां लिंड्से को एक केमिकल कंपनी के डॉक्टरों ने एक नए तरह के ऑपरेशन के लिए राजी किया था. इस पर अब भी रहस्य और खामोशी बरकरार है कि यह भारत कब और कैसे आया. कई जानी-मानी हस्तियों की ब्रेस्ट सर्जरी कर चुके मुंबई के डॉ. नरेंद्र पांड्या 1973 के अपने पहले ऑपरेशन को याद करते हैं: यह आधी रात को अंजाम दी गई एक गुप्त सर्जरी थी. मरीज का चेहरा ढका हुआ था और उन्हें उसका नाम नहीं बताया गया था. एसोसिएशन ऑफ प्लास्टिक सर्जन्स की रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले पांच साल में ब्रेस्ट सर्जरी बेहद लोकप्रिय कॉस्मेटिक सर्जरी में तब्दील हो चुकी है. इंटरनेशनल सोसाइटी ऑफ एस्थेटिक प्लास्टिक सर्जरी सर्वे के मुताबिक, भारत में 2010-11 में 51,000 ब्रेस्ट सर्जरी की गई, जबकि वैश्विक स्तर पर यह आंकड़ा 15 लाख है. यही नहीं, औरतें अब 275-325 सीसी (क्यूबिक सेंटी मीटर) के मध्यम आकार के इम्प्लांट्स की बजाए 350-400 सीसी के इम्प्लांट्स की मांग कर रही हैं.

नींद की समस्या का आयुर्वेदिक समाधान घर बैठे डॉ नुस्खे brain prash ऑर्डर करने के लिए क्लिक* करें https://waapp.me/wa/4k1w5Fir

अपनी तरह के पहले अध्ययन में दिल्ली के मैक्स हेल्थकेयर ने राजधानी में ब्रेस्ट सर्जरी से गुजर चुके 1,000 रोगियों का विश्लेषण किया. अध्ययन से पता चलता है कि इस मांग में इजाफा 25-45 वर्ष की आयु समूह के लोगों के कारण है. इनमें 43 फीसदी औरतें और 88 फीसदी पुरुष अविवाहित हैं. लगभग 70 फीसदी पुरुष और 53 फीसदी महिलाएं सामाजिक और आर्थिक रूप से स्वतंत्र हैं; 67 फीसदी मध्यवर्ग से हैं तो 25 फीसदी संभ्रांत वर्ग से. इस सर्वे को अंजाम देने वाले मैक्स के एस्थेटिक ऐंड रीकंस्ट्रक्टिव सर्जरी के प्रमुख डॉ. सुनील चौधरी कहते हैं, ‘ब्रेस्ट सर्जरी की मांग में सालाना 20 फीसदी का इजाफा हो रहा है.’

Order now Dr. Nuskhe Ashwagandha WhatsApp 9654801188

आप किसी भी दिन किसी प्लास्टिक सर्जन के चैंबर पर पहुंच जाएं तो आपको कई तरह की मांग करने वाले मरीज वहां मिल जाएंगे. मुंबई के डॉ. पांड्या कहते हैं कि उनकी मांगों की सूची असंभव की हद तक पहुंच जाती है. उन्हें किसी फिल्म स्टार की क्लीवेज तो किसी को दूसरे की शेप चाहिए. दिल्ली में डॉ. चौधरी कहते हैं कि मरीज खासे जानकार होते हैं और अकसर यूट्यूब पर वास्तविक सर्जरी देखकर आए होते हैं. वे कहते हैं, ‘वे पढ़े-लिखे, नई पीढ़ी के आजाद व्यक्ति हैं और उनमें से अधिकतर अपना पैसा खर्च कर रहे होते हैं.’ बंगलुरू में वेंकटेश कहते हैं कि पुरुषों में लटके हुए सीने को चुस्त कराने की मांग 17 से 38 वर्ष के लोगों में उफान पर है.

वर्जना अपनी ताकत कब खोती है? कोलकाता की जादवपुर यूनिवर्सिटी के विमेंस स्टडीज की डायरेक्टर समिता सेन कहती हैं, ‘जब यह मुख्यधारा में आ जाती है. एक समय गुप्त रहने वाली सर्जरी को अब बिना किसी डर के खुलकर होने वाली बातचीत ने आम घटना बना दिया है.’ भारत में 1980 के दशक में प्लास्टिक सर्जरी की उस समय शुरुआत हुई जब फिल्म अभिनेताओं ने अपने जादू को बढ़ाने के लिए इसका इस्तेमाल शुरू किया. कयासों के बावजूद हर मामले ने इसे लेकर जागरूकता में इजाफा ही किया हैः ब्यूटी क्वीन से अभिनेत्री बनने वाली एक स्टार के वक्ष नकली होने की अफवाह उड़ाई गई, मुंबई के एक डॉक्टर ने 2002 में दावा किया कि मॉडल से अभिनेत्री बनी एक महिला ने सर्जरी के पैसे नहीं चुकाए, 2007 से राखी सावंत के इम्प्लांट कराने और हटाने की खबरें सुर्खियों में रही हैं और 2011 में टीवी पर पोर्न स्टार सनी लिओनी ने अपने बनावटी वक्ष की जमकर नुमाइश की-इस तरह कॉस्मेटिक सर्जरी के आख्यान में निजी संतुष्टि का आयाम जुड़ गया. सेन कहते हैं, ‘लुक को सबसे ज्‍यादा तरजीह देने वाली दुनिया में यह विचार आजादी का एहसास करा रहा है कि कोई व्यक्ति अपना लुक बदल सकता है.’

अगर आप भी मोटापे से छुटकारा पाना चाहते है और thyroid से परेशान तो आज ही नीचे दिए लिंक को क्लिक करें और पायें आकर्षक फिगर ✍✍
मोटापे को जड़ से खत्म करने की आयुर्वेदिक🌱👍 उपचार किट ऑर्डर करने के लिए क्लिक✍ करें  https://waapp.me/wa/J58rBX2Y

बॉलीवुड की सबसे मुखर आइटम गर्ल राखी सावंत मौजूदा माहौल को अपनी साफगोई से बयान करती हैं: ‘जो चीजें गॉड नहीं देता, वो डॉक्टर देता है.’ वे अपने करियर को परवान चढ़ाने के लिए बड़े ब्रेस्ट चाहती थीं लेकिन जिस हल्केपन के साथ वे इसके साथ पेश आईं, उसने पूरे देश को ही स्तब्ध कर दिया. उन्होंने ब्रेस्ट सर्जरी को सामान्य, जोखिम से परे और जरूरी सर्जरी के तौर पर पेश किया. उन्होंने इंडिया टुडे को बताया कि उन्हें अमेरिका में सर्जरी के लिए तीन लाख रु. की जरूरत थी, जिसे उन्होंने डांस करके कमाया और फिर इंडस्ट्री में उन्हें अपने आकर्षक अंगों के कारण पहचाना जाने लगा. बात यहीं खत्म नहीं होती. महीने भर में ही उन्होंने इन्हें निकालने की बातें करनी शुरू कर दीं क्योंकि टीवी के एक रियलिटी डांस शो की रिहर्सल के दौरान उन्हें इनसे मुश्किल होती थी. राखी और पूनम प्रतीकात्मक रोल मॉडल हैं. अकसर युवतियां डॉक्टर के पास जाते समय संदर्भ के तौर पर इनकी तस्वीरें ले जाती हैं. दिल्ली के अपोलो अस्पताल के डॉ. अनूप धीर कहते हैं, ‘बीसेक साल की लड़कियों में वक्ष को बड़ा करने वाली सर्जरी काफी लोकप्रिय है. इसे निवेश के तौर पर देखा जाता है जो लड़की को विवाह के बाजार की प्रतिस्पर्धा में कुछ खास बना देता है. अकसर यह भाई की ओर से उपहार होता है, और माता-पिता भी पीछे नहीं हैं. मेरे पास ऐसे भी पिता आते हैं, जो अपनी बेटियों को साथ लाते हैं.’

वक्षस्थल पर फोकस एकदम से बढ़ा है.  रोजगार बाजार के जानकार बताते हैं कि अब औसत से ज्‍यादा सुंदर लोग उन लोगों की अपेक्षा अधिक कमाते हैं जो औसत से कम सुंदर हैं. समाजशास्त्री दावा करते हैं कि समाज उन लोगों के साथ दूसरों से अधिक सयाने, यौन रूप से अधिक सक्रिय, अधिक धनी और अधिक खुश रहने जैसी सकारात्मक बातें जोड़ देता है जो सुंदर दिखते हैं. इसमें कोई ताज्‍जुब नहीं कि कॉलेज, कॉर्पोरेट फर्म और मॉल्स से जुड़े 1,300 मध्यवर्गीय लोगों के बीच कराए गए मैक्स हॉस्पिटल सर्वे-2012 में एस्थेटिक सर्जरी की स्वीकार्यता अभी तक सबसे ज्‍यादा रही है. 40 फीसदी इसे अपने लुक में इजाफा करने का सही जरिया मानते हैं; 64 फीसदी इस बात से सहमत हैं कि अच्छा लुक आत्मविश्वास बढ़ाता है; 36 फीसदी का दावा है कि अगर उनकी जेब को रास आए तो वे खुशी-खुशी एस्थेटिक सर्जरी चुनेंगे; 53 फीसदी कहते हैं कि अगर उनका साथी ऐसी सर्जरी कराना चाहेगा तो वे उसका साथ देंगे.

हस्तमैथुन की वजह से आयी कमजोरी की आयुर्वेदिक औषधि घर बैठे मंगवाने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और हमारे एक्सपर्ट्स से बात कीजिये और दवा घर बैठे प्राप्त कीजिये https://waapp.me/wa/4d72gdM1

मुंबई में बेहद व्यस्त पेशेवरों के लिए लंच टाइम ‘बूब जॉब’  यानी कम समय में स्तनों को तराशने की सेवा चलन में है. ब्रीच कैंडी अस्पताल में सीनियर कंसल्टेंट कॉस्मेटिक सर्जन डॉ. मोहन थॉमस नियमित रूप से ऐसी ब्रेस्ट ऑगमेंटेशन प्रक्रिया मुहैया कराते हैं जिसमें 24 घंटे के भीतर व्यक्ति सामान्य रूप से काम पर लौट सकता है. उनका कहना है, ‘अपने काम पर जल्द से जल्द लौटना हमारे अधिकतर मरीजों की प्राथमिकता रहती है.’ पूरी प्रक्रिया को खत्म करने में दो से तीन घंटे का समय लगता है. चेन्नै के पोरूर में स्थित रामचंद्र हॉस्पिटल की डॉ. ज्‍योत्सना मूर्ति कहती हैं, ‘हम उन्हें महीने भर तक शरीर के ऊपरी हिस्से के व्यायाम या ब्रेस्ट पर जोर न डालने की सलाह देते हैं.’

डॉक्टरों का कहना है कि ब्रेस्ट सर्जरी में आए उछाल में 30 फीसदी हिस्सा 30 वर्ष से अधिक उम्र की औरतों का है जो गर्भावस्था और स्तनपान के कारण अपने स्तनों के सौंदर्य को खो बैठी हैं. चंडीगढ़ की एक मां का उदाहरण देखिएः जिस दिन वे 40 वर्ष की हुईं, उन्होंने खुद को आईने में देखा. फिर कॉस्मेटिक सर्जन के पास जाने का फैसला किया. उनके फैसले में कुछ भी नाटकीय नहीं था, बस देर से जागने वाली बात थी. उनके पास सब कुछ थाः कॉर्पोरेट सीढ़ी पर तेजी से चढ़ता एक चाहने वाला पति, दो प्यारे से बच्चे और ऐसा घर जिसे देखकर कोई भी रश्क करे. लेकिन लोगों का उन्हें घूरना कतई पसंद नहीं था. वे कहती हैं, ‘अपने बच्चों को स्तनपान कराने के कारण मेरे स्तन लटक गए थे. मेरे लिए यह असुरक्षा की मुख्य वजह थी.’ फिर उन्होंने ‘ममी मेकओवर’ कहे जाने वाले काम के लिए डॉक्टर के चैंबर का रुख किया. यह जीवन को बदलने वाला अनुभव था, और इसके लिए उन्होंने अपने पति को 5 लाख रु. खर्च करने के लिए राजी भी कर लिया.

घर बैठे शुद्ध मुलेठी चूर्ण आर्डर करने के लिए क्लिक करें मूल्य 666

https://waapp.me/wa/fWFGhdX8

डेढ़ लाख रु. से ढाई लाख रु. की लागत के बावजूद ब्रेस्ट सर्जरी को लेकर पुरानी हिचक अब खुशी के सबब में तब्दील हो रही है. इसकी मुख्य वजह भारत में आ रही समृद्धि और वैश्विक रुझान हैं, जिसके चलते नई तकनीकों का जन्म हो रहा है और प्रशिक्षित पेशेवरों की एक टीम पूरी तरह से तैयार है. अमेरिका के फूड ऐंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन की ओर से मंजूर नई पीढ़ी के इम्प्लांट बाजार में आ रहे हैं. अब इम्प्लांट्स सिलिकॉन पाउच से लेकर सेलाइन बैग तक (जो देखने में पानी के गुब्बारे जैसा लगता है) और दोनों के मिश्रण वाले सिलिकॉन में आ रहे हैं, जिनके फटने या आकार खोने की संभावना कम रहती है. ऐसे भी इम्प्लांट हैं जो ताउम्र चल सकते हैं. नकली स्तनों को एकदम प्राकृतिक जैसा दिखाने के लिए परिष्कृत सर्जिकल प्रक्रियाएं आ रही हैं. डॉ. चौधरी कहते हैं, ‘ताजा रुझान स्तनों को बड़ा आकार देने के लिए मरीज की अपनी ही चर्बी का प्रयोग है.’

ब्रेस्ट सर्जरी ओ.पी.डी प्रक्रिया नहीं है. यह सर्जरी है, और इसके साथ भी वैसे ही खतरे जुड़े हुए हैं जो अन्य किसी सर्जरी में होते हैं. वक्ष को बढ़ाने संबंधी प्रक्रिया कई तरह की जटिलताएं पैदा कर सकती है, खासकर उस समय जब कोई अनाड़ी प्रेक्टिशनर इसे अंजाम दे. जैसा डॉक्टर दावा करते हैं क्या भारत में कोई खतरा नहीं है? एक ऐसा देश जहां कॉस्मेटिक सर्जरी से जुड़ी प्रक्रियाओं का कोई आधिकारिक आंकड़ा नहीं है, वहां क्या कोई सुरक्षा की गारंटी दे सकता है? क्या मरीजों को ब्रेस्ट सर्जरी से जुड़े खतरों के बारे में आगाह किया जाता है. 25-40 फीसदी मरीजों को पहली सर्जरी को सही रखने के लिए कई बार सर्जरी करवानी पड़ती है जो लीक होने, फटने, दर्द, असहजता या अवधि खत्म हो चुके इम्प्लांट से निबटने से जुड़ी होती हैं? इम्प्लांट की उम्र 10 साल की होती है.

ठे शीघ्रपतन, उत्तेजना की कमी, ढीलापन, धातु रोग, वीर्य का कम निकलना आदि समस्याओं को दूर करके देर तक टिकने की घर बैठे ऑर्डर करें डॉ नुस्खे कामदेव पावर किट 👍 ऑर्डर करने के लिए क्लिक करें

भारत आने वाले सस्ते इम्प्लांट को लेकर भी चिंता बढ़ती जा रही है. विशेषज्ञ कहते हैं कि आदर्श स्थिति तो यह है कि सभी इम्प्लांट को मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया की मंजूरी मिलनी चाहिए लेकिन ऐसा नहीं होता है. छोटे क्लीनिकों में इस्तेमाल होने वाले चाइनीज इम्प्लांट संदेह के दायरे में हैं. स्वास्थ्य को लेकर जनवरी से एक बड़ी खबर फैली हुई है कि सस्ते फ्रांसीसी इम्प्लांट से दुनियाभर की लाखों औरतों को कैंसर हो सकता है. यूरोप में एक लाख से ज्‍यादा औरतें हैं जो फ्रांसीसी कंपनी पॉली इम्प्लांट प्रोथीज (पीआइपी) के इम्प्लांट्स का इस्तेमाल कर रही हैं. पीआइपी के इम्प्लांट में इंडस्ट्रियल ग्रेड के सिलिकॉन भरे गए हैं.

सबसे पहली ब्रेस्ट इम्प्लांट सर्जरी टिमी ज्‍यां लिंड्से पर 1962 में हुई थी. उन्हें बताया गया था कि नए और सुधरे हुए वक्ष उनके लिए खुशियां लेकर आएंगे. वे अपने हिस्से का जलवा लूट चुकी हैं लेकिन 50 साल तक सिलिकॉन इम्प्लांट को सीने में रखने के बाद लगातार सख्त होने वाले इम्प्लांट के कारण वे 75 साल की उम्र में दर्द का इजहार करने से चूकती नहीं हैं. लिहाजा, यह कहने का वक्त आ गया है कि अब और किसी को टिमी न बनने दिया जाए.

गठिया के कारण
आयुर्वेदिक वैद्य अच्युत कुमार त्रिपाठी के अनुसार, ‘गठिया एक वात रोग है जिसका कारण कॉन्सटिपेशन, गैस, एसिडिटी, अव्यवस्थित जीवनशैली और अनियमित खान-पान आदि में से कुछ भी हो सकता है। कई बार शारीरिक श्रम कम होने और मानसिक श्रम अधिक होने के कारण भी यह बीमारी हो सकती है।

 Joint pain &  Gathiya Bai   https://waapp.me/wa/dDYd2mFd

आजकल ज्यादा पोर्न फिल्म देखने तथा बचपन की गलत हरकतों से वीर्य पतला हो जाता है । तथा सम्भोग करने की क्षमता भी कम हो जाती है । अंदर जाते ही निकल जाना और उसका असंतुष्ट रह जाना और संबंधों में गिरावट का समाधान आयुर्वेदिक किट  Dr. Nuskhe Azoospermia Kit आर्डर करने के लिए क्लिक करें  https://waapp.me/wa/4d72gdM1

नारी यौवन kit ऑर्डर करने के लिए क्लिक* करें

https://waapp.me/wa/FCS42uSM

👇
नींद की समस्या का आयुर्वेदिक समाधान घर बैठे डॉ नुस्खे brain prash ऑर्डर करने के लिए क्लिक* करें https://waapp.me/wa/4k1w5Fir
👇
ब्रेस्ट बढ़ाने के लिए यह पूरी तरह से एक प्राकृतिक प्रॉडक्ट है। अगर आप अपने स्तन को सही आकार और टाइट करना चाहती हैं तो इस तेल से 5 से 10 मिनट तक हल्की मसाज करें। इसे इस्तेमाल के कुछ दिनों बाद ही आप महसूस करेंगी कि आपकी त्वचा में एक नई चमक भी दिखाई दे रही है। यह स्तनों को कसावट और सही आकार देता है। यह बहुत ही इफेक्टिव मसाज ऑइल है जिसे नैचुरल एक्सट्रेक्ट के द्वारा बनाया गया है आल इंडिया फ्री डिलीवरी
अधिक जानकारी के लिए whatsapp करें 9654801188
ब्रेस्ट size बढ़ाने की आयुर्वेदिक औषधि और मसाज तेल प्राप्त करने के लिए क्लिक *करें https://waapp.me/wa/hU3APBQR
👇
कब्ज की समस्या को जड़ से खत्म करने की आयुर्वेदिक औषधि Dr nuskhe Kabj Killer kit प्राप्त करने के लिए क्लिक* करें https://waapp.me/wa/eu4k5yFH
👇
2 रुपये की गोली से करें शुगर को कंट्रोल आज ही घर बैठे ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें और घर पर प्राप्त करें https://waapp.me/wa/LGTshXKM
👇
घर बैठे अस्थमा, दमा, पुरानी से पुरानी खांसी की आयुर्वेदिक औषधि प्राप्त करने के लिए क्लिक *करें
👇
शुगर की वजह से मर्दाना कमजोरी की समस्या का आयुर्वेदिक समाधान घर बैठे प्राप्त करने के लिए क्लिक* करें मुल्य 848rs मात्र
#धार्मिक, #आयुर्वेदिक #ज्ञानवर्धक जानकारियों के #ग्रुप में शामिल होने के लिए #click करें 🌹👇 https://www.facebook.com/groups/320405736008119/?ref=share

 

ankit1985

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आओ आयुर्वेद के इन टिप्स को अपनाए नशा मुक्त देश बनाये

Tue Sep 1 , 2020
किडनी में स्टोन हो जाने की वजह से पेट में हर वक्त दर्द बना रहता है. इसके अलावा बार-बार यूरि‍न जाना, इस दौरान दर्द होना, बहुत ज्यादा पसीना आना और उल्टी होना भी इसके लक्षण हैं. आप इन घरेलू उपायों को अपनाकर भी किडनी स्टोन से राहत पा सकते हैं […]
Loading...
Loading...