त्रिफला के 10 फायदे, औषधीय गुणों से है भरपूर

त्रिफला के फायदे हिंदी : आयुर्वेद में त्रिफला को बहुत ही लाभकारी माना गया है। आमतौर पर लोग त्रिफला चूर्ण का पेट संबंधी समस्याएं जैसे गैस व कब्ज के लिए इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा अन्य समस्याओं को दूर करने के लिए भी इसका सेवन किया जाता है। यह तीन चीजों हरड़, बहेड़ा व आंवला को मिलाकर बना है। त्रिफला अन्य औषधियों के मुकाबले काफी गुणकारी माना जाता है। यह गैलिक एसिड, एलाजिक एसिड, शेबुलिनिक एसिड, एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर है जो कई रोग का रामबाण इलाज है।

   त्रिफला का सेवन कोई भी कर सकता है।अगर आपको कोई रोग नहीं है तो भी आप इसका सेवन कर सकते हैं। चरक संहिता के अनुसार, एक व्यक्ति बिना किसी बीमारी के भी एक वर्ष से अधिक समय के लिए इसका सेवन कर सकता है। आप त्रिफला को  ग्राम से ग्राम तक की मात्रा में ले सकते है। इसका सेवन पानी या दूध के साथ ही करें।

डॉ नुस्खे avipattikar ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक  करें  https//wapp.me/wa/fc3xDMfJ

whatshap no:8882144978

त्रिफला सिरदर्द दूर भगाएं

भागदौड़ भरी जिंदगी में कई लोगों को सिरदर्द की समस्‍या का सामना करना पड़ता है। इससे बचने के लिए आप त्रिफला का सेवन कर सकते हैं। त्रिफला, हल्दी, नीम की छाल और गिलोय को पानी में पकाएं जब तक कि पानी आधा बच जाए। फिर इसे छानकर गुड या शक्कर के साथ सेवन करें। इसका कुछ दिन तक सुबह शाम लें। इससे आपको सिर दर्द से राहत मिलेगी।

त्रिफला प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए

कई लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है जिसकी वजह से वह लगातार बीमार पड़ जाते हैं। इससे बचने के लिए त्रिफला के सेवन काफी अच्छा रहेगा। यह शरीर को बैक्‍टीरिया से मुक्‍त रखता है।

त्रिफला पेट के रोगों के लिए है अमृत

त्रिफला की तीनों जड़ीबूटियां पाई जाती हैं जो पेट की अंदर से सफाई करती है। त्रिफला के चूर्ण को गौमूत्र के साथ सेवन करने से अफारा, उदर शूल, प्लीहा वृद्धि आदि रोगों से छुटकारा मिलता है।

त्रिफला कब्‍ज की समस्‍या करे दूर

कब्‍ज की समस्‍या के लिए त्रिफला बेहद फायदेमंद है। रात को सोते समय त्रिफला चूर्ण को हल्के गर्म दूध या गर्म पानी के साथ सेवन करें। इसके अलावा आप इसे ईसबगोल  में मिक्स करके गुनगुने पानी के साथ भी ले सकते हैं। इससे कब्ज की समस्‍या दूर हो जाएगी।

त्रिफला खून बढ़ाए

एनीमिया से पीड़‍ित लोगों के लिए त्रिफला का सेवन बहुत लाभकारी है। नियमित रूप से इसका सेवन करने से शरीर में लाल रक्त कोशिकाएं बनती हैं जिससे शरीर में कभी खून की कमी नही होती।

त्रिफला है एंटी-ऑक्‍सीडेंट

त्रिफला में मौजूद एंटी-ऑक्‍सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो उम्र बढ़ाने वाले कारक कम करता है। इसका सेवन करने से आप म्र से ज्‍यादा जवां दिखेंगे।

त्रिफला आंखों की रोशनी बढ़ाएं

त्रिफला के सेवन से आंखों की रोशनी बढ़ती है। इसका इस्तेमाल करने के लिए शाम को 1 गिलास पानी में 1 चम्मच त्रिफला भिगो दें। फिर सुबह इसे अच्छे से मिलाकर छान लें और इस पानी से आंखों को धोएं। इसके अलावा सुबह पानी में त्रिफला चूर्ण भिगो कर रख दें और शाम को छानकर पी ले। आंखों की रोशनी बढ़ने के साथ आंखों संबंधी समस्या से भी राहत मिलेगी।

त्रिफला डायबिटीज के लिए भी बेस्ट

त्रिफला डायबिटीज को कंट्रोल करने में काफी सहायक है। डायबिटीज मरीजों को रोजाना सुबह त्रिफला का सेवन करना चाहिए।

डॉ नुस्खे de_stress kitऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें https://waapp.me/wa/VCSsak8F

whatshap no:8882144978

त्रिफला मुंह की दुर्गन्‍ध करे दूर

कई लोगों के मुंह से काफी दुर्गन्‍ध आती है। इस समस्या से बचने के लिए त्रिफला बहुत ही लाभकारी माना जाता है। 1 चम्मच त्रिफला को 1 गिलास ताजे पानी मे 2-3 घंटे के लिए भिगो दें। फिर इस पानी को मुंह में थोड़ी देर के लिए रखें और अच्छे से घुमाये। कुछ देर बाद इसे निकाल दें। इसके अलावा त्रिफला चूर्ण से मंजन भी कर सकते हैं। इससे मुंह संबंधी कई समस्याओं से छुटकारा भी मिलेगा।

त्रिफला त्‍वचा के लिए भी है बेस्ट

त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं के लिए त्रिफला बहुत मददगार है। यह शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालता है जिससे ब्‍लड साफ होता है और त्‍वचा संबंधी समस्‍याएं आसानी से दूर हो जाती है।

ankit1985

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

काली मिर्च एक प्रकार का मसाला है जो सब्जी आदि स्वादिष्ट बनाने में प्रयोग किया जाता है किन्तु यह औषधीय तत्व से पूर्ण है।

Fri Mar 20 , 2020
त्रिफला के फायदे हिंदी : आयुर्वेद में त्रिफला को बहुत ही लाभकारी माना गया है। आमतौर पर लोग त्रिफला चूर्ण का पेट संबंधी समस्याएं जैसे गैस व कब्ज के लिए इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा अन्य समस्याओं को दूर करने के लिए भी इसका सेवन किया जाता है। यह तीन चीजों हरड़, बहेड़ा व आंवला […]
Loading...
Loading...