सांस फूलने की बीमारी से पाए निजात इन घरेलू उपायों की मदद से

सांस फूलने की बीमारी से पाए निजात इन घरेलू उपायों की मदद से

 

सांस फूलने की बीमारी से अधिकतर लोग परेशान हैं। हांलाकि कई लोग इस परेशानी को अस्थमा की बीमारी समझ लेते हैं लेकिन यह अस्थमा से अलग हैं। यह बीमारी अधिकांशत: वातावरण में फैले प्रदूषण की वजह से होती हैं। लोगों का मानना है कि मोटे लोगों को इस बीमारी से जूझना पड़ता हैं, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि पतले लोग भी इस बीमारी से उतने ही परेशान हैं। इसलिए आज हम आपको सांस फूलने की बीमारी से निजात दिलाने के लिए बताने जा रहे हैं कुछ घरेलू उपाय।

 

* शहद का सेवन : शहद सबसे आम और सबसे बेहतर घरेलू उपचारों में से एक है। इसको उपयोग अस्थमा अर्थात जिन लोगों को साँस की परेशानी होती है उनके लिए भी किया जाता है। अस्थमा का अटैक आने पर शहद वाले पानी की भाप लेनी चाहिए। जिससे जल्द ही राहत मिलती है। इसके अलावा दिन में दो से तीन बार एक गिलास पानी के साथ शहद मिलाकर पीने से भी बहुत आराम मिलता है। शहद का सेवन करने से बलगम ठीक हो जाती है जो सांस की परेशानी को पैदा करती है।

* अंजीर : जिन लोगो की सांस फूलती है, उनके लिए अंजीर अमृत के समान है क्योंकि अंजीर छाती में जमी बलगम और सारी गंदगी को बाहर निकाल देती है। जिससे सांस नली साफ़ हो जाती है और सुचारू रूप से कार्य करती है। इसके लिए आप तीन अंजीर गरम पानी से धोकर रात को एक बर्तन में भिगोकर रख दीजिये और सुबह खाली पेट नाश्ते से पहले उन अंजीरों को खूब चबाकर खा लीजिये। उसके बाद वह पानी भी पी लें।

 

 

 तुलसी का रस : बेहद गुणकारी तुलसी सांस फूलने की समस्या में भी बेहद लाभदायक होती है। तुलसी का रस और शहद चाटने से अस्थमा रोगि यों को व सांस फूलने की समस्या वाले लोगों को आराम मिलता है। इससे सांस की बंद नलियां तुरंत ही खुल जाती हैं।

* यूकेलिप्टस तेल
 : यदि सांस फूलने की समस्या है को घर में यूकेलिप्टस का तेल जरूर रखें। जब कभी सांस फूले तो यूकेलिप्टस का तेल सूंघ लें, इसको सूंघने से आपको तुरंत फायदा होगा और समस्या धीरे-धीरे ठीक होने लगेगी।

* तिल का तेल : यदि ठंड की वजह से छाती जाम हो जाए या रात के समय दमे का प्रकोप बढ़ जाए और सांस ज्यादा फूलने लगे तो तिल के तेल को हल्का गर्म करके छाती और कमर पर गरम तेल की सेक करे। इस प्रकार आपकी छाती खुल जायेगी और आपको सांस फूलने की समस्या में राहत मिलेगी।

 

 

* लहसुन : लहसुन भी सांस फूलने की समस्या में अत्यंत लाभकारी औषधि का कार्य करता है। इसके लिए लहसुन की 3 कलियों को दूध में उबालना है और फिर उस दूध को छानकर सोने से पूर्व पीना है। याद रहे इसके बाद कुछ भी न खाये या पिए।

 



* नीबू का रस :
 सांस फूलने या दमा की समस्या में नीबू का रस गरम जल में मिलाकर पीते रहने से यह समस्या धीरे धीरे जड़ से खत्म हो जाती है। सांस फूलने की समस्या में केला अधिक मात्रा में नही खाना चाहिए। पानी हल्का गरम पीना चाहिए। पानी उबालकर और थोड़ा हल्का गरम पीना ही लाभकारी होता है।

 

क्या आप कब्ज से परेशान है तो आयुर्वेदिक उपचार अपनाने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करे या Call  या Whatsapp7827204210 करे

https://waapp.me/wa/vH3DADRx

ankit1985

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अगर नहीं पढ़ा तो पड़ सकता है जिन्दगी भर पछताना

Thu Oct 17 , 2019
सांस फूलने की बीमारी से पाए निजात इन घरेलू उपायों की मदद से   सांस फूलने की बीमारी से अधिकतर लोग परेशान हैं। हांलाकि कई लोग इस परेशानी को अस्थमा की बीमारी समझ लेते हैं लेकिन यह अस्थमा से अलग हैं। यह बीमारी अधिकांशत: वातावरण में फैले प्रदूषण की वजह […]
Loading...
Loading...