Loading...

नसों मे कमज़ोरी ढीलापन का घरेलू इलाज

युगलो के बीच मे शारीरिक संबंध हो और संभोग करे ये प्राकृतिक बात है| संभोग को सफल बनाने के लिए पहले तो दोनो में उत्तेजना होना ज़रूरी है और खास कर के पुरुष मे| जब पुरुष उत्तेजित हो जाता है तो लिंग खड़ा होता है और तब वो संभोग करे तो खुद को और अपने साथी को आनंद और संतुष्टि दे सकता है|

आज कल ऐसे किससे बढ़ते जाते है जिसमे पुरुष जवान हो मगर उसके लिंग मे सही उत्तेजना और उत्थान नहीं आता है या तो लिंग जल्दी खड़ा और जल्दी डाउन होना ऐसा हो जाता है| इससे खुद भी परेशान होते है और साथी भी| जानिए नसों मे कमज़ोरी और लिंग के ढीलेपन का कैसे इलाज करे और फिर से अपने लिंग को कड़क करके ठीक रख सके|

लिंग की नसों मे कमज़ोरी ढीलापन की पहचान, कारण और घरेलू इलाज :-

  1. लिंग की नसों मे कमज़ोरी ढीलापन के कारण – Causes of penile flaccidity in Hindi 
  2. लिंग की नसों मे ढीलापन के शारीरिक कारण – Physical causes for erectile dysfunction in Hindi
  3. लिंग की नसों में कमज़ोरी के मानसिक कारण – Mental causes of erectile dysfunction in hindi
  4. लिंग की नसों मे कमज़ोरी ढीलापन की पहचान कैसे करे – How to recognize erectile dysfunction in Hindi
  5. लिंग की नसों मे कमज़ोरी ढीलापन के नुकसान – Risk of flaccid penis in Hindi
  6. लिंग उतेजना कैसे होती है – The mechanism of erection in Hindi
  7. लिंग की नसों मे कमज़ोरी ढीलापन दूर करने के घरेलू उपाय – Home remedies to achieve erection in Hindi 
  8. लिंग की नसों मे कमज़ोरी ढीलापन दूर करने के आयुर्वेदिक इलाज – Ayurvedic ling me tanav ke upay in hindi
  9. लिंग की नसों मे कमज़ोरी दूर करने के लिए आहार और लाइफस्टाइल बदले  – Food and lifestyle in hindi to overcome erectile dysfunction

लिंग की नसों मे कमज़ोरी ढीलापन के कारण – Causes of Penile Flaccidity in Hindi

  • पुरुष कामोत्तेजित हो जाता है तो लिंग खड़ा हो जाता है|
  • इसमे ज्ञान तंत्र का भी काम होता है की वो सही संकेत भेजे जिससे लिंग की खून नली (corpus cavernosa) में खून जमा हो जाता है, वाल्व बंद होता है और संभोग के लिए लिंग सक्षम हो जाता है|
  • ऐसा ना हुआ तो लिंग ढीला रहता है और इसे लिंग प्राब्लम कहते है|
  • कई पुरुषो में लिंग जल्दी खड़ा और जल्दी डाउन होना ऐसी परिस्थिति भी होती है तो कई पुरुषो मे लिंग कठोर ही नहीं होता है|
  • नसों की कमज़ोरी के पीछे मानसिक और शारीरिक कारण हो सकते है|

लिंग की नसों मे ढीलापन के शारीरिक कारण – Physical Causes for Erectile Dysfunction in Hindi

  • नसों की कमज़ोरी या तो लिंग मे तनाव नहीं आता है तो इसके पीछे शारीरिक कारण हो सकते है|
  • इंद्रियो और ग्रंथियो का ठीक से काम ना करना, हॉर्मोन्स की कमी होना|
  • कोलेस्ट्रॉल ज़्यादा हो, चर्बी बढ़ जाए शरीर में, उच्च रक्तचाप हो, बीमारी हो तो भी लिंग प्राब्लम होती है और नसों मे कमज़ोरी आ जाती है|
  • लिंग की बीमारी और अंडकोष के कारण भी लिंग ठीक से खड़ा नहीं होता है|
  • आहार सहीं लेना, श्रम ज़्यादा करना, यह भी लिंग की नसों की कमज़ोरी का कारण है|
  • यकृत मे बीमारी, गुर्दे मे बीमारी, प्रॉस्टेट(prostate) में सूजन, रीड की हड्ड़ी पर चोट लगना यह भी शारीरिक कारण है लिंग की नसों की कमज़ोरी के|
  • व्यक्ति अगर शराब ज़्यादा पिए, नशीले पदार्थ, तंबाकू, कोला, कॉफी और चाय का सेवन करे तो भी लिंग प्राब्लम खड़ी हो जाती है|
  • शारीरिक स्वस्थता व्यायाम से होती है और बैठे बैठे जीवन गुज़ारे तो मासपेशिया ढीली हो जाती है और लिंग भी|

 

लिंग की नसों में कमज़ोरी के मानसिक कारण – Mental Causes of Erectile Dysfunction in Hindi

नसों की कमज़ोरी के कारण मानसिक भी हो सकते है|

  • पुरुष अगर ज़्यादा तनाव भरी जिंदगी जीता है या तो डिप्रेशन(depression) का शिकार हो गया है तो लिंग मे तनाव नहीं आता है|
  • ज़्यादा पोर्न (porn) देखे तो भी लिंग उत्तेजना और उत्थान आसानी से नहीं हो पाता है|
  • संभोग के समय संकोच और देर रहे तो लिंग खड़ा नहीं होता है ठीक से|
  • पार्ट्नर पसंद ना हो और घृणा हो तो दिलचस्पी नहीं रहती है और लिंग खड़ा नहीं होता है|
  • ज्ञानतंतु संबंधित रोग हो जैसे अल्झाइमर (alzheimer) और पार्किंसन (parkinson) तो भी यह तकलीफ़ होती है|
  • दिमागिया हालत असंतुलित हो|
  • इंसान बेचैन और परेशान हो तो भी लिंग खड़ा नहीं होता है|

लिंग की नसों मे कमज़ोरी ढीलापन की पहचान कैसे करे – How to Recognize Erectile Dysfunction in Hindi

  • खुद ही आप पहचान सकेंगे की आपका लिंग ढीला होता जाता है की नहीं|
  • लिंग मे तनाव जल्दी से नहीं आता है यह एक लक्षण है|
  • लिंग जल्दी खड़ा होना और जल्दी डाउन होना यह भी एक चिन्ह् है|
  • लिंग जितना होना चाहिए उतना कठोर नहीं होता है|
  • यह सभी लिंग प्राब्लम इन हिन्दी है जिसके लिए डॉक्टरी जाँच ज़रूरी है|
  • लिंग की नसों का डॉक्टर कई ऐसे परीक्षण करेगा यह जानने के लिए की पीछे के राज़ क्या है|
  • पहले तो ब्लड टेस्ट करवाएगा और फिर टेस्टोस्टेरोन(testosterone) और प्रोलैक्टिन(prolactin) हॉर्मोन का खून मे कितना स्तर है|
  • फिर नींद मे और रात में लिंग कितना कठोर होता है इसका सवाल होगा|
  • पेशाब की जाँच होगी यह जानने के लिए कहीं प्रोटीन ज़्यादा तो नहीं आता है|
  • मानसिक परीक्षण भी होगा की दिमागिया हालत तो लिंग के ढीलेपन का कारण नहीं है और फिर होगा इलाज|

लिंग की नसों मे कमज़ोरी ढीलापन के नुकसान – Risk of Flaccid Penis in Hindi

  • लिंग की बीमारी हो, लिंग जल्दी खड़ा और जल्दी डाउन होना, नसों की कमज़ोरी और पेनिस प्राब्लम इन हिन्दी के कारण नुकसान हो सकता है|
  • खुदका आत्म सम्मान कम होता जाएगा|
  • पार्ट्नर को संतुष्ट नहीं कर पाएँगे और यह तलाक़ का कारण हो सकता है|
  • लड़ाई झगड़े होंगे वैवाहिक जीवन में और संबंध बिगड़ जाते है|
  • उमर से लिंग में ढीलापन आना यह मामूली बात है मगर जवानी में हो तो नसों की कमजोरी का इलाज फ़ौरन करवाना चाहिए|

लिंग उतेजना कैसे होती है – The Mechanism of Erection in Hindi

  • नसों की कमजोरी का इलाज करे उसके पहले जानिए लिंग उत्तेजना कैसे होती है|
  • लिंग मे है कार्पस कैवर्नोसा(corpus cavernosa)|
  • स्पर्श से या तो नज़र से दिमाग़ और स्वायत तंत्रिका (autonomous nervous system) लिंग उत्तेजना की क्रिया शुरू करते है|
  • हॉर्मोन्स का स्त्राव होता है और लिंग की मासपेशिओ मे और खून मे नाइट्रिक ऑक्साइड (nitric oxide)का प्रमाण बढ़ जाता है
  • कार्पस कैवर्नोसा(corpus cavernosa) के अंदर लहू का बहाव बढ़ जाता है और एकत्रित होता है जिससे लिंग कठोर होने लगता है|
  • यह खून लिंग मे ही जमा हो जाता है और वापस नहीं बह सकता है क्योंकि लिंग के अंदर की मासपेशिअा लहू की नसों को दबाके रखती है|
  • ऐसे मे संभोग करे और लिंग को घर्षण मिलने पर उत्तेजाना आगे बढ़ती जाए तो एक सीमा आती है जब दिमाग़ और स्वायत तंत्रिका संदेश भेजती है और स्खलन होता है और फिर लिंग वापस ढीला हो जाता है|

लिंग की नसों मे कमज़ोरी ढीलापन दूर करने के घरेलू उपाय – Home Remedies to Achieve Erection in Hindi

  • लिंग मे तनाव लाने के घरेलू उपाय मे पहले जीवन शैली को सुधारना ज़रूरी है|
  • लिंग मे तनाव के उपाय इन हिन्दी जानिए की शराब, गुटखा, तंबाकू, सिगरेट, चाय, कॉफी जैसे पदार्थो का सेवन बंद कर दे|
  • चीनी बंद कर दे और जंक फुड्स को बंद कर दे|
  • लिंग खड़ा करने के घरेलू उपाय में शरीर को डेटॉक्स(detox) करे और फिर आरोग्य वर्धक आहार जिसमे फल सब्जी, प्रोटीन हो ऐसा संतुलित आहार ले|
  • आहार में टमाटर, तरबूज, अखरोट, पालक, देसी घी, दूध, चिलगोज़ा, सौंफ, इलाइची, दालचीनी, लौंग, दाल, आमला, अंडे और माँस का सेवन करे|
  • साथ मे हरी मिर्च, लाल मिर्च और काली मिर्च भी लेते रहे क्योंकि यह उत्तेजना में सहायक है|
  • जीरा खाए और फलो मे खास अनार का रस पीते रहे और सब्जी मे सहजन के पत्ते और सहजन(drumstick)ले |
  • यह ध्यान में रखे की सभी विटामिन, खनिज पदार्थ और प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में मिले शरीर को|
  • नसों की कमजोरी के इलाज में व्यायाम करे हर रोज जिसमे केगेल(kegel) एक्सर्साइज़ अवश्य करे|
  • ताजी हवा मे रहे, धूप मे भी निकले एक घंटे के लिए और नींद पूरी ले| पानी खूब पीना ना भूले|
  • लिंग की नसों का इलाज जानकार अपनाए तो काफ़ी फरक पड़ेगा| वजन कम है या बढ़ गया है तो इस हालत को भी सुधारे|
  • साथ मे सेक्स कमज़ोरी का इलाज चेक उप और ट्रीटमेंट करवाए डॉक्टर के पास से अगर ज़रूरी है|
  • परीक्षण मे यह साबित होती है की इलाज ज़रूरी है दवा द्वारा तोह उसकी दवा ले|
  • सिल्डेनाफिल (Sildenafil)और तदफील(tadafil) जैसे गोली से टेम्पररी फायदा होगा मगर हमेशा इनका उपयोग ना करे क्योंकि यह फायदे से ज़्यादा नुकसान करेंगी|
  • बेहतर यह है की लिंग मे तनाव लाने के घरेलू उपाय सामान्य घरेलू सामग्री और आयुर्वेदिक जड़ी बूटी से करे|

लिंग की नसों मे कमज़ोरी ढीलापन दूर करने के आयुर्वेदिक इलाज – Ayurvedic Ling me Tanav ke Upay in Hindi

लिंग की नसों मे ढीलेपन का इलाज आयुर्वेदिक जड़ी बूटी और पद्धतियों से करे तो अच्छा फायदा होगा| आयुर्वेदिक नसों की कमजोरी का इलाज इस प्रकार करे:

  • शरीर का शुद्धीकरण करे जिसमे एनीमा (enema) ले, हॉट स्टीम बाथ ले और 2-3 दिन उपवास रख के शरीर मे से विष बाहर निकाल दे|
  • लिंग खड़ा करने के घरेलू उपाय में आयुर्वेदिक जड़ी बूटी अदरक का खूब इस्तेमाल करे आहार में या तो इसका रस पीए दिन मे दो बार शहद के साथ|
  • आयुर्वेद से लिंग की नसों का इलाज इन हिन्दी करे मुसली, अश्वगंधा, गोखरू, कवच बीज,अक्कारकारा, यष्टिमधु, काली मिर्च, सोंठ चूर्ण को ले और घी-गुड के साथ मिला के छोटे लड्डू बनाए और दिन के 3-4 बार सेवन करते रहे|
  • दूध मे क्या मिलके पिए की लिंग मे उतेजना आए ओर कठोर हो जाए यह भी एक सवाल है जिसका जवाब है की गरम दूध में गुड को घोले और एक चम्मच हल्दी मिला के पीते रहे हर रोज रात को संभोग के एक घंटे पहले| लिंग कड़क भी होगा और लंबे समय तक टीका रहेंगा|
  • दूध मे क्या मिलके पिए की लिंग मे उतेजना आए ओर कठोर हो जाए तो इस आयुर्वेदिक लिंग मे तनाव के उपाय प्रयोग मे गरम दूध मे एक चम्मच घी, एक चम्मच अश्वगंधा, एक चम्मच मुसली और एक चम्मच कवच बीज चूर्ण मिलाए और सेवन करे दिन मे दो बार|
  • एक और उपाय है की गरम दूध मे शिलाजीत मिला के ज़रूर पिए दिन मे दो बार या तो रात को सोने से पहले|
  • दूध मे छुहारे उबाले, मुन्नका भी डाले और फिर घी मिला के इस दूध का सेवन करे सेक्स कमज़ोरी के इलाज में|
  • लिंग का ढीलापन के उपाय इन हिन्दी करे मालिश से जिसमे सरसों का तेल, तिल का तेल या तो घी को हल्का गरम करके सोते समय लिंग की मालिश करे 10 मिनिट तक| तिल के तेल मे जौ का आटा मिला के लेप कर के लगा के रखे रात भर| अश्वगंधा और चमेली के तेल का उपयोग भी फायदाकारक है|
  • घी मे हींग पिघला के लिंग की मालिश करे|
  • ईमली के बीज को भिगोए और छिलका निकाल के पेस्ट बनाये और घी मे भुन के चीनी या शहद के साथ सेवन करे|
  • आमले का मुरब्बा और घी मिला के सेवन करे लिंग की नसों का इलाज इन हिन्दी में|

लिंग की नसों मे कमज़ोरी दूर करने के लिए आहार और लाइफस्टाइल बदले  – Food and Lifestyle in Hindi to Overcome Erectile Dysfunction

  • लिंग कमजोर क्या होता है यह तो आप ने जान ही लिया तो आयुर्वेदिक उपाय है बेल के पत्ते का रस और शहद के मिश्रण से लिंग की मालिश करे|
  • लिंग की नसों का इलाज इन हिन्दी है आयुर्वेदिक पद्धति है गिलोय का चूर्ण और मूली का रस मिला के दिन मे 3 बार सेवन करे|
  • लिंग मे तनाव नहीं आता है तो शिलाजीत, सुवर्ण मालती, कुसमुकर रस, लोह भस्म, शुद्ध गूगल, सुहागे के फूल सभी मिला के सेवन करे दिन मे दो बार|
  • स्टैमिना दवा ले जिसमे अश्वगंधा, घी, खजूर, अंजीर, अखरोट, मेथी का पाउडर और बादाम से बनाया लड्डू उत्तम है|
  • सफेद प्याज का रस, लहसुन का रस, अदरक का रस, चुटकी काली मिर्च और घी को मिला के पीते रहे तो यह उत्तम लिंग मे तनाव का उपाय इन हिन्दी है|
  • आयुर्वेदिक सेक्स कमज़ोरी का इलाज है मुसली, कवच बीज, नागकेसर, अक्कारकारा, विदारीकंद, यष्टिमधु, गिलोय और त्रिफला चूर्ण जिसको मिला के घी और गुड के साथ लड्डू बना के खाए|
  • लिंग खड़ा करने के आयुर्वेदिक उपाय में तेजपत्ता, सोंठ, दशमूल अरिष्ट, ब्राहमी रस, जटामांसी रस, इलाइची, अजवाइन, बरगद के पत्ते का रस, पीपल के मूल का रस, पीपेरमूल, सभी को मिला के गुड और घी के साथ मिला के गोली या लड्डू बना के खाए|
  • लिंग बढ़ाने के उपाय हिन्दी मे जानना है तो घी और हींग की मालिश या सरसों के तेल में लौंग का तेल और धतूरा और कैक्टस(cactus) का दूध मिलाके मालिश करे|
  • योगा, प्राणायाम, अनुलोम विलोम और कपालभाति ज़रूर करे सवेरे लिंग प्राब्लम के लिए|
  • लिंग के ढीलेपन के लिए आहार और लाइफस्टाइल याने जीवन शैली ज़िम्मेदार है|
  • आहार पोष्टिक ले और फल, सब्जी, दाल, नट्स, मसाले का उपयोग ज़्यादा करे|
  • जीवन शैली नियमित बनाए और बुरी आदतो से बचे तो अपने आप स्वास्थ सुधर के लिंग में उत्तेजना वापस आ जाएगी|

यह है लिंग की समस्या के समाधान| जानिए और अपनाए और जीवन मे बदलाव लाए|

लिंग की नसों मे कमज़ोरी दूर करने के लिए मरदाना ताकत बढ़ने की आर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक कर  https://qopi.me/38a9f3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Loading...