Loading...

नानक ने अपने दर्शन को तीन सूत्रों में कहा – किरत करो, जप करो, वंड छको यानी काम, पूजा और दान करो। उनके यहां न ‘नमस्ते’ है और न ही ‘सलाम वालेकुम’। वहां सिर्फ ‘सत-करतार’ है, जिसका संबंध सत्य कर्ता से है।

साधना और अध्यात्म की दिव्य प्रेरणा के अप्रतिम भाव में घुले-मिले नानक लोकोत्तर व्यक्तित्व के अनुपम प्रतिनिधि हैं। नानक की पढ़ाई बाहरी नहीं, भीतरी थी। परमात्मा की भक्ति में ओतप्रोत उनके 976 दोहे और भजन, जो संस्कृत, हिंदी, फारसी और अरबी में गुंथे हैं, आध्यात्मिक ऊंचाई के सर्वोच्च शिखर हैं। यही कारण है कि उनके लिखे शब्द देश और काल की सीमा पार कर समूचे संसार को प्रभावित करने में सफल हुए हैं।

दो परंपरा, एक धारा
भारतीय शास्त्र परंपरा और ईरानी तसव्वुफ के मिलन से एक जागृति फैली। इस चेतना का सात शताब्दियों का लंबा इतिहास है। स्वामी रामानंद इस भक्ति इतिहास के प्रारंभ बिंदु हैं। भक्ति की इस भावभूमि पर जो पुष्प खिले, उनमें कबीर, रैदास और नानक जैसे बड़े नाम शामिल हैं। आचार्य क्षितिमोहन सेन ने गुरु नानक पर किए लंबे अध्ययन में बगदाद के एक अरबी पत्र ह्यदारुस्सलामह्ण का जिक्र किया है। यह 9 अप्रैल, 1919 में छपा। इसमें लिखा है, नानक ने देश-विदेश में घूमकर बड़े योगियों और साधकों की संगत की। बगदाद में उनकी याद में एक मंदिर है, जिस पर तुर्की भाषा में शिलालेख मौजूद है। गुरु नानक के सैयद-वंशी चेलों के उत्तराधिकारी अभी तक इस मंदिर की रक्षा करते हैं।

साझा संस्कृति के संप्रदाय
नानक के पिता मेहता कालू पेशे से मुनीम थे और वे अपने बच्चे को भी मुनीम बनाना चाहते थे। पर वह बालक दुनिया का महान धर्म प्रवर्तक बना। लाहौर से 40 मील दूर दक्षिण-पश्चिम के एक गांव तलवंडी में नानक का जन्म खत्री परिवार में हुआ।

13 की उम्र में उन्होंने एक कविता लिखी, जिसे उन्होंने ‘पट्टीलिखी’ नाम दिया और खुद को ‘शायर’ कहकर संबोधित किया। नानक की शादी हुई और दो बच्चे हुए। कुछ समय सुल्तानपुर में नवाब दौलत खान के यहां चाकरी की फिर निकल पड़े ईश्वर को तलाशने। इनके साथ कुछ लोग भी थे, जिनमें ‘मर्दाना’ नाम का एक मुसलमान भी था। नानक ने जो बात कही, उसे सुनकर समाज में नई हलचल पैदा हुई- दुई जगदीश कहां ते आअ कह कोने भरमाया/अल्लीह, राम, रहीम, केशव, हरी, हजरत नाम धराया।

औरतों की हालत बदतर थी। ऐसे में नानक ने कुरीतियों पर प्रहार और उन्हें खत्म करने की कोशिश में ‘सिख’ धर्म की स्थापना की। सिख शब्द का मूल संस्कृत भाषा का ‘शिष्य’ शब्द है। शिष्य का अर्थ शांत, विनीत, शुद्धात्मा, श्रद्धावान और चरित्रवान होने से है। नानक ने अपने शिष्यों को एकेश्वरवाद का सिद्धांत दिया। ईश्वर के निर्गुण-निरंकार रूप को माना। इस नाते यह कहा जाता है कि सिख पंथ सनातन धर्म की ही अरबी टीका है। साझा संस्कृति की विरासत थामे सिख धर्म को सनातन परंपरा की ही एक बांह कहा जा सकता है।

सत्य से संबंध
नानक ने पांच बड़ी यात्राओं में देश और दुनिया के बड़े भूखंड को नापा। इस दौरान उन्होंने लोगों की धारणाओं और अंध-मान्यताओं को झकझोरा। उनका बनारस का एक वृत्तांत प्रसिद्ध है, जिसमें वे काशी के पंडितों को गंगा में पूर्व दिशा की ओर जल अर्पित करते देखकर पूछते हैं कि वे किसे जल चढ़ा रहे हैं? मालूम हुआ कि वे लोग अपने पूर्वजों के लिए पिंडदान कर रहे हैं। नानक पश्चिम की तरफ जल अर्पित करने लगे तो पंडितों ने उन्हें टोका। नानक बोले, ‘खेत पश्चिम दिशा की तरफ हैं, मैं उन्हें पानी दे रहा हूं।’ कुछ इसी तरह उन्होंने मक्का की तरफ पैर रखकर सोते हुए टोके जाने पर कहा – मेरे पैर उस तरफ कर दो जहां मक्का न हो।

महिलाओं की बदहाली पर लिखा
महिलाओं की बदहाली पर उन्होंने बहुत लिखा। मासिक धर्म में औरतों को अपवित्र मानने की परंपरा उन्हें भारी नागवार गुज़री। नानक जहां भी गए, उन्होंने हिंदू और मुसलमान, दोनों की अंधी-मान्यताओं पर जमकर प्रहार किया। उन्होंने लिखा, उसे मंदिर-मस्जिद में नहीं, भीतर खोजो – जो ब्रमांडे सोई पिंडे, जो खोजे सो पावे।

ग्रंथ साहिब का दार्शनिक संदेश
गुरु नानकदेव के अमर वचनों को पहले-पहल गुरु अंगद ने गुरुमुखी में लिखा। ‘ग्रंथ साहिब’ का संकलन और संपादन 1604 ईस्वी में पांचवे गुरु अर्जुनदेव ने किया। गुरुग्रंथ साहिब में मात्र सिख गुरुओं के ही उपदेश ही नहीं है, बल्कि इसमें 30 हिंदू संतों और मुस्लिम भक्तों की वाणी भी सम्मिलित है। इसमें जहां रामानंद, जयदेव और परमानंद जैसे ब्राह्मण भक्तों की वाणी है, वहीं मानव समाज के मुखर प्रतिनिधि कबीर, रविदास, नामदेव, सैन, धन्ना जाट की वाणी भी सम्मिलित है। भाषाई अभिव्यक्ति और दार्शनिक संदेश की दृष्टि से गुरुग्रंथ साहिब अद्वितीय है।

गुरु नानक खुद को न हिंदू मानते हैं और न मुस्लिम। जिसे वे सिख कहते हैं, वह उनकी दृष्टि में सुधरा हुआ हिंदू और सुधरा हुआ मुसलमान, दोनों हैं। आरंभ में उनके पंथ में कई मुसलमान भी दीक्षित हुए, जिनकी संख्या बाद में न के बराबर हो गई। नानक राम की खोज में थे, वे कहते और समझाते हैं- राम सुमिर राम सुमिर, यही तेरो काज है!

अश्वगंधा का चूर्ण, असगंध तथा बिदारीकंद को 100-100 ग्राम की मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण बना लें। चूर्ण को आधा चम्मच मात्रा में दूध के साथ सुबह और शाम लेना चाहिए। यह मिश्रण वीर्य को ताकतवर बनाकर शीघ्रपतन की समस्या से छुटकारा दिलाता है।

अश्वगंधा एमीनो एसिड्स और विटामिन का बेहतरीन संयोजन है। यह दिमाग में एनर्जी को बूस्ट करने तथा स्टेमिना मजबूत करने में काफी मदद करता है। अश्वगंधा मानसिक तनाव जैसी गंभीर समस्या को ठीक करने में लाभदायक है. एक रिर्पोट के अनुसार तनाव को 70 फिसदी तक अश्वगंधा के इस्तेमाल से कम किया जा सकता है. दरअसल आपके शरीर और मानसिक संतुलन को ठीक रखने में असरकारी है.

इससे अच्छी नींद आती है.अश्वगंधा कई सम्स्याओं से छुटकारा दिलाने का काम कर सकता है.

घर बैठे डॉ. नुस्खे अश्वगंधा ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें मुल्य 798rs https://waapp.me/wa/X4ivR8CV

ज्यादा धूम्रपान करने वाले और फेफड़े की समस्या से ग्रस्त शख्स की सांस भी सहवास के दौरान फूल सकती है।

*जिन लोगों को ये तीन सेक्स समस्यायें हों,*
*1 – लिंग का , छोटा ,पतला होना या टेढ़ा होना ।*
*2 – हस्तमैथुन की वजह से लिंग का आकार छोटा रह जाना ।*
*3 – सेक्स करते वक्त, लिंग में कड़ापन ना आना, या फिर कड़ापन आते ही तुरन्त ढीला हो जाना तथा ,,*
*शीघ्रपतन की बीमारी होना ।*

संभोग शक्ति बढ़ने के लिए शिलाजीत युक्त डॉ. नुस्खे हॉर्स पावर किट आर्डर करने के लिए क्लिक करें https://waapp.me/wa/mQzaK99d

इंटरकोर्स शुरू होने से 60 सैकंड के भीतर ही अगर किसी पुरूष का वीर्य-स्खलन हो जाता है तो इसे शीघ्र-पतन (premature ejaculation) कहा जायेगा। इंटरनेशनल सोसाइटी ऑफ सैक्सुयल मैडीकल के विशेषज्ञों ने पहली बार इस शीघ्र-पतन की पारिभाषित किया है….रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि विश्व भर में 30 फीसदी पुरूष इस यौन-व्याधि (Sexual disorder) से परेशान हैं। शीघ्र पतन की सबसे खराब स्थिति यह होती है कि सम्भोग क्रिया शुरू होते ही या होने से पहले ही वीर्यपात हो जाता है। सम्भोग की समयावधि कितनी होनी चाहिए यानी कितनी देर तक वीर्यपात नहीं होना चाहिए, इसका कोई निश्चित मापदण्ड नहीं है। यह प्रत्येक व्यक्ति की मानसिक एवं शारीरिक स्थिति पर निर्भर होता है। सेक्‍स के दौरान कुछ देर तक लंबी सांस जरूर लें। यह प्रक्रिया शरीर को अतिरिक्‍त ऊर्जा प्रदान करती है।

आपको मालूम होना चाहिए कि एक बार के सेक्स में करीब 400 से 500 कैलोरी तक ऊर्जा की खपत होती है। इसलिए अगर संभव हो सके तो बीच-बीच में त्‍वरित ऊर्जा देने वाले तरल पदार्थ जैसे ग्लूकोज, जूस, दूध आदि का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा आपसी बातचीत भी आपको स्थायित्व दे सकता है। ध्‍यान रखें, संभोग के दौरान इशारे में बात न करके सहज रूप से बात करें। डर, असुरक्षा, छुपकर सेक्स, शारीरिक व मानसिक परेशानी भी इस समस्या का एक कारण हो सकती है। इसलिए इससे बचने का प्रयत्‍न करें। इसके अलावे कंडोम का इस्तेमाल भी इस समस्या के निजात के लिए सहायक हो सकता है

*जिन लोगों को ये तीन सेक्स समस्यायें हों,*
*1 – लिंग का , छोटा ,पतला होना या टेढ़ा होना ।*
*2 – हस्तमैथुन की वजह से लिंग का आकार छोटा रह जाना ।*
*3 – सेक्स करते वक्त, लिंग में कड़ापन ना आना, या फिर कड़ापन आते ही तुरन्त ढीला हो जाना तथा ,,*
*शीघ्रपतन की बीमारी होना ।*

संभोग शक्ति बढ़ने के लिए शिलाजीत युक्त डॉ. नुस्खे हॉर्स पावर किट आर्डर करने के लिए क्लिक करें https://waapp.me/wa/mQzaK99d

बेहतर ज़िंदगी जीने का मिलेगा मौका
आत्मविश्वास में होगी बढ़ोतरी
समाज़ में मिलेगी पहचान
लोग आपकी पर्सनैलिटी की देंगे मिसाल
💪 वजन बढ़ाये और अच्छी बॉडी बनाये
👉 आयुर्वेदिक और गारंटेड प्रोडक्ट
🚚 ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें http://bit.ly/2MxJyFl

वजन बढ़ाने की आयुर्वेदिक और हर्बल दवा घर बैठे पाने के लिए लिंक पर क्लिक करें https://waapp.me/wa/eweq6rsW

दिल्ली आयुर्वेदिक के Whatsapp ग्रुप🌱 से जुड़ने के लिए क्लिक करें
https://chat.whatsapp.com/Klg3dGQ5Y8N2M486wZQffv

छोटे स्तनों को विकसित करने की आयुर्वेदिक उपचार किट ब्रेस्ट मसाज ऑइल के साथ ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें  https://waapp.me/wa/tkBVwWcK

शुद्ध शिलाजीत घर बैठे ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें मूल्य 698rs https://waapp.me/wa/B7uvmrxP

ज्यादा धूम्रपान करने वाले और फेफड़े की समस्या से ग्रस्त शख्स की सांस भी सहवास के दौरान फूल सकती है।

अस्थमा ( दमा), साँस की तकलीफ की आयुर्वेदिक उपचार दवाई घर बैठे प्राप्त करने के लिए Whatsapp 9654-860649 करें या लिंक पर क्लिक करें http://bit.ly/2LUEpbE

भारत के सबसे बड़े फ्री आयुर्वेदिक उपचार फेसबुक ग्रुप से जुड़ने के लिए लिंक पर क्लिक करें https://www.facebook.com/groups/769136306866271

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Loading...