Loading...

मोटापे की तरह ही दुबलापन भी कई बार परेशानी का कारण होता है। अधिकतर ये समस्या उन लोगों को होती है जिन्हें भूख नहीं लगती है। भूख कम लगने के कारण भोजन करने की क्षमता भी कम हो जाती है। जिसके कारण शरीर की धातुओं का पोषण नहीं होता। ऐसे में शरीर दुबलेपन का शिकार हो जाता है।

शारीरिक  कमजोरी  और  दुबलापन  दूर  करने के  लिए एक चौथाई चम्मच दालचीनी चूर्ण सुबह – शाम गर्म दूध के साथ लेना चाहिए, इस प्रयोग से शारीरिक दुर्बलता दूर होकर शरीर स्वस्थ हो जाता है.

दुबलापन होने के कारण (CAUSE OF THINNESS)

अक्सर लोग मोटापे को लेकर काफी परेशान रहते हैं. लेकिन दुनिया में कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनको दुबलापन अधिक होने के कारण अपने वजन को बढ़ाने को कोशिशों में लगे रहते हैं. दुबलापन भी शरीर के लिए उतना ही नुकशान दायक होता है जितना की मोटापा, चाहे शारीरिक हो या मानसिक दोनों ही स्थिति में व्यक्ति को नुकसान होता है. जो व्यक्ति अधिक दुबला होता है वह किसी भी काम को करने में जल्द थक जाता है. दुबले व्यक्तियों के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है.

पाचन शक्ति में गड़बड़ी के कारण भी व्यक्ति अधिक दुबला हो सकता है इसके अलावा मानसिक, भावनात्मक तनाव, चिंता लेने वाले व्यक्ति का वजन भी कम हो जाता हैं. शरीर में हार्मोन्स असंतुलित होने के कारण भी व्यक्ति में दुबलापन आ जाता हैं. ऐसे व्यक्ति को कोई भी रोग जैसे- सांस का रोग, क्षय रोग, हृदय रोग, गुर्दें के रोग, टायफाइड आदि बहुत जल्दी हो जाते हैं. मोटा होने के उपाय के लिए लोगों द्वारा बाजार के महंगे उत्पाद खरीदे जाते हैं लेकिन इस तरह के उत्पाद हमारे लिए सुरक्षित हैं या नहीं ये जानना बहुत ज़रूरी होता है. इन समस्याओं को दूर करने के लिए कुछ घरेलू उपयो का उपयोग करना चाहिए जो की बेहद सरल होते हैं.

दुबलापन दूर करने के सरल घरेलू इलाज (HOME REMEDIES FOR THINNESS)

पूरी और गहरी नींद लें शारीरिक  कमजोरी  और  दुबलापन दूर करने के लिए (Full and deep sleep to away physical weakness and thinness)-

स्वस्थ शरीर के लिए भरपूर नींद लेना बहुत आवश्यक है. हर रोज कम से कम 8 घंटे की गहरी नींद अवश्य लेनी चाहिए . अच्छी नींद लेने से हमारे शरीर में नयी कोशिकाएं का निर्माण होता है और पुरानी कोशिकाएं नए कोशिकाओ में तब्दील होती है. अच्छी नींद लेने के लिए रात को खाना खाने के बाद तुरंत सो जाये और सुबह जल्दी उठ जाये. इससे आपको दुबलेपन से रहत मिल जाएगी.

पानी ज्यादा पीये शारीरिक  कमजोरी  और  दुबलापन दूर करने के लिए (Drink more water to away physical weakness and thinness)-

यह तो आप सब को पता ही होगा की पानी हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होता है. इसलिए रोजाना 2 लीटर से अधिक पानी पिए. इससे शरीर में मौजूद जहरीले पदार्थ बाहर निकल जाते है और भोजन का पाचन भी अच्छी तरह से होता है. पानी हमारे शरीर में फुर्ती बनाये रखता है जिस कारण काम या एक्‍सरसाइज करते समय कमजोरी महसूस नहीं होती है और दुबलापन दूर करने में मदद मिलती हैं.

जंक फ़ूड का सेवन न करे शारीरिक  कमजोरी  और  दुबलापन दूर करने के लिए ( Avoiding junk food to away physical weakness and thinness)-

आजकल जंक फ़ूड सभी को पसंद होता हैं मगर कई लोग अपना वजन जल्दी बढ़ाने के चक्कर में जंक फ़ूड का सेवन करते है जिसके कारण मोटा होने के बजाये शरीर को अनेक प्रकार की बीमारियों से गृसित कर देता हैं. जंक फ़ूड से वजन तो बढ़ जाता है पर साथ ही साथ यह आपके पाचन क्रिया को खराब भी कर देता है और इससे शुगर और ह्रदय सम्बन्धी रोग भी उत्पन्न हो जाते है.

भोजन में कैलोरी की मात्रा बढायें शारीरिक  कमजोरी  और  दुबलापन दूर करने के लिए (Extended amount of calories to away physical weakness and thinness)-

अंडा, मछली, मांस और डेरी उत्पादों को अपनी डाइट में शामिल करें साथ ही आप चॉकलेट और मिठाइयाँ भी ले सकते हैं.

मेवे और गिरी खाएं शारीरिक  कमजोरी  और  दुबलापन दूर करने के लिए (Fruits and nuts to away physical weakness and thinness)-

हाई प्रोटीन और बढ़िया फैट का एक बेहतरीन श्रोत है मेवे- अंजीर, खजूर, बादाम, काजू, अखरोट, मूंगफली आदि को अपने आहार में शामिल करे इससे दुबलेपन को दूर करने में मदद मिलती हैं.

आलू का सेवन शारीरिक  कमजोरी  और  दुबलापन दूर करने के लिए (Potato to away physical weakness and thinness)-

आलू में वसा, कैलोरीज और फाइबर की मात्रा अधिक होती हैं यह फैट बढ़ाने में मदद करता हैं. प्रतिदन अपने आहार में आलू को शामिल करे इससे फैट बढ़ाने में मदद मिलती हैं.

अदरक का उपयोग शारीरिक  कमजोरी  और  दुबलापन दूर करने के लिए (Ginger to away physical weakness and thinness)-

अदरक बहुत से रोगों का इलाज होता हैं. अदरक हमें आसानी से प्राप्त हो जाती है. यह हमें वजन बढ़ाने के साथ-साथ रक्त संचार, भूख न लगना, अपच और पेट के फूलने की समस्या से छुटकारा दिलाता है. इसलिए प्रतिदिन अदरक का सेवन करना आवश्यक होता हैं.

केले का सेवन शारीरिक  कमजोरी  और  दुबलापन दूर करने के लिए (Banana to away physical weakness and thinness)-

केला हमारे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बहुत लाभदायक होता हैं. प्रतिदिन दो या दो से अधिक केलो का सेवन करे. इससे पाचन तंत्र अच्छा रहता हैं साथ ही केले से दुबलेपन को भी दूर किया जा सकता हैं.

दुबलापन दूर करने के कुछ अन्य उपाय( EASY TIPS FOR THINNESS AWAY)

  1. दुबलेपन के रोगी को दूध, घी आदि का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए।
  2. गेहूं, जौ की चपाती, मूंग या अरहर की दाल, पालक, पपीता, लौकी, मेथी, बथुआ, परवल, पत्तागोभी, फूल गोभी का सेवन अधिक करना चाहिए।
  3. रोजाना सेब, अनार, मौसम्बी आदि फलों के रस के अलावा सूखे मेवों में अंजीर, अखरोट, बादाम, पिस्ता, काजू, किशमिश आदि का सेवन भी भरपूर मात्रा में करना चाहिए।
  4. शहद वजन बढाने में बहुत लाभ देता है. इसलिए आप शहद ले सकते है.

वीर्य और धातु की समस्या का आयुर्वेदिक समाधान

धात गिरने को ही धातु रोग कहते है, धातु रोग का अर्थ होता है के व्यक्ति के वीर्य का मूत्र के साथ निकल जाना, इसे ही धात रोग कहते है! धातु के गिरने को शुक्र-मेह ( Dhatu girne ko Shukrameh bhi kahte hai) भी कहा जाता है!
जब भी किसी पुरुष के मन में काम या सेक्स की भावना बढ जाती है! तो लिंग अपने आप ही कड़ा हो जाता है और उसका अंग उत्तेजना की अवस्था में आ जाता है! इस अवस्था में व्यक्ति के लिंग से पानी के रंग के जैसी पतली लेस के रूप में निकलने लगती है! लेस बहूत कम होने के कारण ये लिंग से बाहर नहीं आ पाती है, लेकिन जब व्यक्ति काफी अधिक देर तक उत्तेजित रहता है तो ये लेस लिंग के मुहँ के आगे आ जाती है!
आज के युग में अनैतिक सोच और अश्लीलता के बढ़ने के कारण आजकल युवक और युवती अक्सर अश्लील फिल्मे देखते और पढते है तथा गलत तरीके से अपने वीर्य और रज को बर्बाद करते है! अधिकतर लड़के-लड़कीयां अपने ख्यालों में ही शारीरिक संबंध बनाना भी शुरू कर देते है!
जिसके कारण उनका लिंग अधिक देर तक उत्तेजना की अवस्था में बना रहता है, और लेस ज्यादा मात्रा में बहनी शुरू हो जाती है! और ऐसा अधिकतर होते रहने पर एक वक़्त ऐसा भी आता है! जब स्थिति अधिक खराब हो जाती है और किसी लड़की का ख्याल मन में आते ही उनका लेस (वीर्य) बाहर निकल जाता है, और उनकी उत्तेजना शांत हो जाती है! ये एक प्रकार का रोग है जिसे शुक्रमेह कहते है!
वैसे इस लेस में वीर्य का कोई भी अंश देखने को नहीं मिलता है! लेकिन इसका काम पुरुष यौन-अंग की नाली को चिकना और गीला करने का होता है जो सम्बन्ध बनाते वक़्त वीर्य की गति से होने वाले नुकसान से लिंग को बचाता है!
धात रोग का प्रमुख कारण क्या है? ( Causes of#DischargeWeakness )
1. अधिक कामुक और अश्लील विचार रखना!
2. मन का अशांत रहना!
3. अक्सर किसी बात या किसी तरह का दुःख मन में होना!
4. दिमागी कमजोरी होना!
5. व्यक्ति के शरीर में पौषक पदार्थो और तत्वों व विटामिन्स की कमी हो जाने पर!
6. किसी बीमारी के चलते अधिक दवाई लेने पर
7. व्यक्ति का शरीर कमजोर होना और उसकी प्रतिरोधक श्रमता की कमी होना!
8. अक्सर किसी बात का चिंता करना
9. पौरुष द्रव का पतला होना
10. यौन अंगो के नसों में कमजोरी आना
11. अपने पौरुष पदार्थ को व्यर्थ में निकालना व नष्ट करना
(हस्तमैथुन अधिक करना)

#धातरोग के लक्षण क्या है? ( Symptoms of #DischargeWeakness ) :
मल मूत्र त्याग में दबाव की इच्छा महसूस होना! धात रोग का इशारा करती है!
1. लिंग के मुख से लार का टपकना!
2. पौरुष #वीर्य_का_पानी जैसा पतला होना!
3. शरीर में कमजोरी आना!
4. छोटी सी बात पर तनाव में आ जाना!
5. हाथ पैर या शरीर के अन्य हिस्सों में कंपन या कपकपी होना!
6. पेट रोग से परेशान रहना या साफ़ न होना, कब्ज होना!
7. सांस से सम्बंधित परेशानी, श्वास रोग या खांसी होना!
8. शरीर की पिंडलियों में दर्द होना!
9. कम या अधिक चक्कर आना!
10. शरीर में हर समय थकान महसूस करना!
11. चुस्ती फुर्ती का खत्म होना!
12. मन का अप्रसन्न रहना और किसी भी काम में मन ना लगना इसके लक्षणों को दर्शाता है
धात रोग के आयुर्वेदिक उपाय ( Ayurvedic Remedies for Discharge Falling )

🐎 *बडे से बडां सेक्स टोनिक भी इनके आगे है फैल । “डॉ. नुस्खे हॉर्स पावर किट ” पावर पैक ।*🐎

सभी जगह से निराश आैर हताश रोगी इनको जरुर आजमाए ।

यह आयुर्वेद की सबसे अनमोल खोज मानी जायेगी क्योकी इस दवां का प्रभाव अन्य दवाइयो के मुकाबले 100 गुनां अधिक है । इनके कुछ दिनो के ही सेवन से धोडे सी ताकत शरीर मे आ जाती है । गुप्त अंगो का विकास होतां है। सेक्स मे रुची बढ़ेगी । सेक्स का टाइमिंग बढेंगा । सेक्स के बाद होने वाली कमजोरी दूर होगी । जो लोग जल्दी थक जाते है वं थकान भी दूर होती है । शुक्राणु की संख्या मे वृद्धी होती है । इनके सेवन के बाद यौन सम्बंध बनाने पर आपको कभी अहसास नही हूवां एसा अहसास होगा । इनके सेवन से पुरुष वं स्ञी दोनो को संतुष्टी का अहसास होगा । जिन लोगो को सेक्स के दरम्यान उत्तेजनां मंद हो जाती है उनके लिए यह रामबाण है । यह उत्तेजनां को काफी टाइम तक बनाए रखतां है । जिनका वीर्य जल्दी निकल जातां है उनको रोके रखतां है । इस आैषधी को प्रेसेन्ट करने को लिए जीतनी तारीफ करे कम ही है क्योंकि जब आप इनको आजमायेगे नही तब तक आपको पतां नही चलेगा की यह दवां बहुत ही असरदार है । जिनके शुक्राणु मे दिक्कत है आैर बच्चा नही हो रहां वह इनका सेवन अचूक करे 100% लाभ होगा । अगर शोर्ट मे कहे तो यह आैषधी घोड़े सी ताकत देनी वाली है वं जोश का तूफान है ।

तैयार बना बनवायां कुरीयर द्रारा मंगवाने के लिए हमारे नम्बर पर संपर्क करे । यह आैषधी मे कुछ अनमोल आैषधी है जिसके कारन थोडी महंगी है ।
मूल्य 2545/1.25 Kg
डॉ. नुस्खे
Mobile 📱 7455896433
Whatsapp ✍️ 7455-896-433
🌿🌿🌿🌿
💢💢💢💢💢💢💢

1. गिलोय ( Tinospora ) : धात रोग से मुक्ति प्राप्त करने के लिए 2 चम्मच गिलोय के रस में 1 चम्मच शहद मिलकर लेना चाहिए!

2. आंवले ( Amla ) : प्रतिदिन सुबह के वक़्त खाली पेट दो चम्मच आंवले के रस को शहद के साथ लें! इससे जल्द ही धात पुष्ट होने लगती है! सुबह शाम आंवले के चूर्ण को दूध में मिला कर लेने से भी धात रोग में बहूत लाभ मिलता है!

3. तुलसी ( Basil ): 3 से 4 ग्राम तुलसी के बीज और थोड़ी सी मिश्री दोनों को मिलाकर दोपहर का खाना खाने के बाद खाने से जल्दी ही लाभ होता है!

4. मुसली ( White Asparagus Abscendens ): अगर 10 ग्राम सफ़ेद मुसली का चूर्ण में मिश्री मिलाकर खाया जाए और उसके बाद ऊपर से लगभग 500 ग्राम गाय का दूध पी लें तो अत्यंत लाभ करी होता है! इस उपाय से शरीर को अंदरूनी शक्ति मिलती है और व्यक्ति के शरीर को रोगों से लड़ने के लिए शक्ति मिलती है!

5. उड़द की दाल ( Udad Pulses ) : अगर उड़द की दाल को पीसकर उसे खांड में भुन लिया जाए और खांड में मिलाकर खाएं तो भी जबरदस्त लाभ जल्दी ही मिलता है!

6. जामुन की गुठली ( Kernels of Blackberry ): जामुन की गुठलियों को धुप में सुखाकर उसका पाउडर बना लें और उसे रोज दूध के साथ खाएं! कुछ हफ़्तों में करने पर ही आपका धात गिरना बंद हो जायेगा!

*सेक्स करते समय जल्दी निकल जाता है वीर्य: WhatsApp order Dr. Nuskhe Horse Power Kit 7455896433

Whatsapp Bhi Kar Sktein Hain  Click Now: http://bit.ly/2WUmQeE

 

7. कौंच के बीज ( Kaunch Seeds ): अगर आपका#वीर्यपतला है तो 100 – 100 ग्राम की मात्रा में मखाने (Dryfruit) और कौंच के बीज लेकर उन्हें पीस कर उनका चूर्ण बना लें और फिर उसमे 200 ग्राम पीसी हुई मिश्री मिला लें!
8. अब इस मिश्रण के रोज (आधा) ½ चम्मच को गुनगुने दूध में मिलाकर पियें! इससे आपका जल्द ही बहूत अधिक लाभ मिलेगा!

9. शतावरी मुलहठी ( Asparagus Liquorices ) : 50 ग्राम शतावरी, 50 ग्राम मुलहठी, 25 ग्राम छोटी इलायची के बीज, 25 ग्राम बंशलोचन, 25 ग्राम शीतलचीनी और 4 ग्राम बंगभस्म, 50 ग्राम सालब मिसरी लेकर इन सभी सामग्रियो को सुखाकर बारीक पिस लें! पीसने के बाद इसमे 60 ग्राम चाँदी का वर्क मिलाएं और प्राप्त चूर्ण को (60 ग्राम ) सुबह-शाम गाय के दूध के साथ लें!
सेक्स की समस्या आम समस्या नहीं हैं इसपे आपकी पीढ़ी निर्भर करती हैं ! अथ: किसी प्रकार की इलाज करने से पहले आप एक अछे सेक्सोलोगिस्ट का राय ले ! आयुर्वेद में #सेक्स की समस्या का सफलतम इलाज खोज निकाला हैं !

अगर आप सेक्स के समस्या से जूझ रहे हैं तो आप हमसे संपर्क कर सकते हैं – Whatsapp 7455-896-433

*सेक्स करते समय जल्दी निकल जाता है वीर्य: WhatsApp order Dr. Nuskhe Horse Power Kit 7455896433

Whatsapp Bhi Kar Sktein Hain  Click Now: http://bit.ly/2WUmQeE

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Loading...